Home /News /nation /

bypoll results akhilesh bhagwant mann victims of overconfidence bjp wins despite challenges

उपचुनाव के नतीजे: एसपी और आप अतिआत्मविश्वास की शिकार, 'बुलडोजर' वाली नीति ने बीजेपी को जिताया

यूपी में आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा सीट बीजेपी ने जीती (फाइल फोटो)

यूपी में आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा सीट बीजेपी ने जीती (फाइल फोटो)

By Election Result: यूपी, पंजाब और त्रिपुरा समेत 5 राज्यों में लोकसभा व विधानसभा की सीटों पर उपचुनाव के नतीजे सामने आ गए हैं. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी ने आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा सीट गंवा दी है. वहीं पंजाब में आम आदमी पार्टी की संगरूर लोकसभा सीट पर हार हुई है. ये नतीजे बताते हैं कि अतिआत्मविश्वास एसपी और आप के लिए हार का कारण बना. जबकि त्रिपुरा में बीजेपी सीएम बदलने के बावजूद जीती.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: देश की 3 लोकसभा और 7 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे (By Election Result) सामने आ गए हैं. इन चुनावी परिणामों ने एक बार फिर चौंकाया दिया है. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी ने आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा सीट गंवा दी है. वहीं पंजाब में आम आदमी पार्टी की संगरूर लोकसभा सीट पर हार हुई है. ये नतीजे बताते हैं कि अतिआत्मविश्वास एसपी और आप के लिए हार का कारण बना.

आजमगढ़ और रामपुर में समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रचार नहीं किया. जबकि योगी आदित्यनाथ ने आक्रामक तरीके से कैंपेन किया.

आजमगढ़ लोकसभा सीट अखिलेश यादव की संसदीय सीट थी, लेकिन करहल विधानसभा सीट को बरकरार रखने के लिए उन्होंने आजमगढ़ सीट को छोड़ दिया. अखिलेश यादव के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव ने आजमगढ़ सीट से चुनाव लड़ा, लेकिन एक अति आत्मविश्वास के कारण अखिलेश ने उनके लिए प्रचार भी नहीं किया.

रामपुर से सपा विधायक आजम खान दो साल से अधिक समय से जेल में थे, लेकिन उन्होंने रामपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने के लिए अपने परिवार के किसी सदस्य को आगे नहीं किया. उन्होंने 2019 में इस सीट पर जीत दर्ज की थी. समाजवादी पार्टी को रामपुर में मिली हार यह दर्शाती है कि इन दो सालों में काफी कुछ बदला है. अखिलेश यादव से आजम खान के मनमुटाव और प्रचार अभियान में कमी कारण यह परिणाम सामने आया.

यूपी में फिर बढ़ी बीजेपी की लोकसभा सीट

यूपी के उपचुनाव परिणामों से यह साबित हुआ है कि जनता ने भारतीय जनता पार्टी की अपराधियों के खिलाफ “बुलडोजर कार्रवाई” और “सख्त दृष्टिकोण” पसंद आया. बीजेपी नेतृत्व इस जीत से खुश होगा क्योंकि 2014 में पार्टी ने 80 में से 73 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी लेकिन 2019 यह संख्या 64 रह गई. लेकिन अब यूपी में एनडीए की लोकसभा की संख्या बढ़ गई है.

खास बात है कि सपा ने 2019 में बसपा के साथ गठबंधन में रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा सीटें जीती थीं. लेकिन इस बार बीएसपी ने अलग से चुनाव लड़ा और आजमगढ़ में उसके उम्मीदवार शाह आलम को लगभग 30% वोट मिले, जिससे यहां समाजवादी पार्टी की जीत की संभावना कम हो गई. रामपुर में बीजेपी का सपा से सीधा मुकाबला था और उसके प्रत्याशी घनश्याम लोधी ने जीत हासिल की.

बीजेपी नेता बीएल संतोष ने कहा कि यह “सांप्रदायिक, विभाजनकारी, अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की राजनीति के लिए खतरे की घंटी है. यूपी की जनता ने पीएम मोदी और सीएम योगी की विकास की राजनीति का समर्थन किया है.

पंजाब में सीएम भगवंत मान को झटका

करीब तीन महीने पहले पंजाब विधानसभा चुनाव प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आई आम आदमी पार्टी को संगरूर लोकसभा सीट पर हार का सामना करना पड़ा. सिद्धू मूसे वाला हत्याकांड से पंजाब में आप को बड़ा नुकसान हुआ है. संगरूर का जनादेश राज्य में खराब कानून व्यवस्था के खिलाफ प्रतीत होता है.
संगरूर सीट पर हार मुख्यमंत्री भगवंत मान के लिए एक झटका है. क्योंकि इस सीट पर उन्होंने दो बार जीत दर्ज की थी.

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर जल्द पटना आएगा बैलेट पेपर, बूथ बनाने की तैयारी अंतिम दौर में

हालांकि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की स्थिति मजबूत बनी हुई है. पार्टी ने राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर जीत हासिल कर ली. जिसे पार्टी नेता राघव चड्ढा ने राज्यसभा जाने के बाद छोड़ी थी.

वहीं पिछले महीने त्रिपुरा में मुख्यमंत्री बिप्लब देब को बदलने और माणिक साहा की ताजपोशी के बावजूद भाजपा राज्य में विधानसभा चुनाव से एक साल पहले चार विधानसभा सीटों में से तीन सीटों पर उपचुनाव जीत हासिल करने में सफल रही. इन उप-चुनावों को विधानसभा चुनावों से पहले सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा है.

त्रिपुरा में कांग्रेस ने एक विधानसभा सीट पर जीत हासिल की. जबकि टीएमसी का जोरदार प्रचार और अभिषेक बनर्जी के हाई-प्रोफाइल दौरों के बावजूद फ्लॉप हो गया. टीएमसी इन उपचुनावों में सभी सीटों पर सिर्फ 2.8% वोट हासिल कर पाई थी. नए सीएम माणिक साहा ने अपनी नई कुर्सी को मजबूत करने के लिए उपचुनाव जीता. उत्तराखंड, गुजरात, कर्नाटक और अब त्रिपुरा में मुख्यमंत्री बदलने की बीजेपी की रणनीति नुकसान के बजाय सही साबित होती दिख रही है.

Tags: Akhilesh yadav, Bhagwant Mann, By election, CM Yogi Aditya Nath

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर