लाइव टीवी

गोवा के आर्चबिशप ने CAA को बताया 'विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण', केंद्र से की तत्काल वापस लेने की मांग

भाषा
Updated: February 9, 2020, 12:17 PM IST
गोवा के आर्चबिशप ने CAA को बताया 'विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण', केंद्र से की तत्काल वापस लेने की मांग
आर्चबिशप ने सरकार से राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) और राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (NPR) को देशभर में लागू ना करने की अपील भी की है.

गिरजाघर ने कहा कि सीएए (CAA), एनआरसी (NRC) और एनपीआर (NPR) 'विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण' है और यह निश्चित तौर पर हमारे जैसे बहु-सांस्कृतिक लोकतंत्र पर 'नकारात्मक और हानिकारक प्रभाव' डालेगा.

  • Share this:
पणजी. गोवा और दमन के आर्चबिशप फादर फिलिप नेरी फेराओ ने केंद्र सरकार से संशोधित नागरिकता कानून (CAA) को 'तत्काल और बिना किसी शर्त' वापस लेने और 'असहमति जताने के अधिकार' को दबाना बंद करने की अपील की है.

आर्चबिशप ने सरकार से राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) और राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (NPR) को देशभर में लागू ना करने की अपील भी की है.

गोवा गिरजाघर की एक शाखा 'सोसाइटी फॉर सोशल कम्युनिकेशंस मीडिया' ने शनिवार को एक बयान में कहा, 'आर्चबिशप और गोवा का कैथोलिक समुदाय सरकार से भारत के लाखों लोगों की आवाज सुनने, असहमति जाहिर करने के अधिकार को ना दबाने और इन सबसे अधिक संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को वापस लेने और एनआरसी और एनपीआर को लागू ना करने की अपील करता है.'

गिरजाघर ने कहा कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर 'विभाजनकारी और भेदभावपूर्ण' है और यह निश्चित तौर पर हमारे जैसे बहु-सांस्कृतिक लोकतंत्र पर 'नकारात्मक और हानिकारक प्रभाव' डालेगा.

गोवा इससे पहले जनवरी माह में सैकड़ों लोगों ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन किया था. 'गोवा एकता मंच' के बैनर तले लोग दक्षिण गोवा जिले के पोंडा में शनिवार को एकत्र हुए और उन्होंने प्रदर्शन रैली की. इस रैली में रिटायर्ड आईएएस अधिकारी अरविंद भाटीकर ने रैली को संबोधित किया और दावा किया कि नया नागरिकता कानून 'भारत को बर्बाद' कर देगा. उन्होंने आरोप लगाया, 'भारत के संविधान को बरकरार रखने की आवश्यकता है. संशोधित नागरिकता कानून भेदभावपूर्ण और संविधान के खिलाफ है.'

ये भी पढ़ें- शाहीन बाग प्रदर्शन के दौरान दो जोड़ों को हुआ प्यार, 7-8 फरवरी को करेंगे निकाह

दिल्ली चुनावों में कितना चला शाहीन बाग का दांव, Exit Poll करने वाले विशेषज्ञ का चौंकाने वाला जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 9, 2020, 12:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर