Assembly Banner 2021

Assam Vidhan Sabha Chunav: कांग्रेस की सरकार आई तो असम में लागू नहीं होगा CAA- प्रियंका गांधी

असम में एक चुनावी रैली को संबोधित करतीं प्रियंका गांधी. (ANI/2 March 2021 )

असम में एक चुनावी रैली को संबोधित करतीं प्रियंका गांधी. (ANI/2 March 2021 )

Assam Assembly Elections 2021: प्रियंका गांधी ने असम में कांग्रेस सरकार आने के बाद कम से कम 5 लाख सरकारी नौकरी देने का भी वादा किया.

  • Share this:

गुवाहाटी. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को कहा कि अगर असम में कांग्रेस की सरकार सत्ता में आती हैं, तो प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लागू नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा, 'कांग्रेस पार्टी की असम में सरकार बनेगी, तो हमारी सरकार एक कानून लागू करेगी जिसके तहत यहां सीएए लागू नहीं हो पाएगा.' इसके साथ ही उन्होंने असम में कांग्रेस सरकार आने के बाद कम से कम 5 लाख सरकारी नौकरी देने का भी वादा किया.


असम के तेजपुर में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि यदि कांग्रेस असम में सत्ता में आती है, तो वह ‘गृहिणी सम्मान’ के तौर पर गृहिणियों को हर महीने दो हजार रुपये देगी. इसके साथ ही उन्होंने चाय के बागान में श्रमिकों को 365 रुपये का वेतन मिलने की भी बात कही. प्रियंका ने इस दौरान बिजली बिल में कटौती करने का भी वादा किया. उन्होंने कहा, 'अगर हमारी सरकार बनेगी तो बिजली की 200 यूनिट आप लोगों को मुफ्त में मिलेंगे. बिजली के बिल से आपके 1400 रुपये हर महीने बच जाएंगे.'


भाजपा ने असम में CAA लागू करने पर चुप्पी साध रखी है, प्रियंका गांधी वाड्रा का दावा


कांग्रेस महासचिव चुनावी राज्य असम के दो दिवसीय दौरे पर हैं. उन्होंने यह वादा भी किया कि उनकी पार्टी चाय बागान मजदूरों की न्यूनतम दिहाड़ी मौजूदा 167 रुपये से बढ़ा कर 365 रुपये करेगी और युवाओं को करीब 25,000 सरकारी नौकरी प्रदान करेगी. उन्होंने कहा, ‘असम के लोगों को भाजपा ने 25 लाख नौकरियां देने का पांच साल पहले वादा किया था लेकिन उन्हें धोखा दिया और इसके बजाय यहां के लोगों को सीएए दिया. हमारी पार्टी खोखले वादे नहीं कर रही है, बल्कि पांच गारंटी दे रही है.’


गौरतलब है कि सीएए का उद्देश्य पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए ऐसे हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान करना है, जो उन देशों में धार्मिक प्रताड़ना के चलते 31 दिसंबर 2014 तक भारत आ गए थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज