होम /न्यूज /राष्ट्र /CAB 2019: नागरिकता कानून पर असम में विरोध प्रदर्शन के बीच कर्फ्यू में ढील, जानें बड़ी बातें

CAB 2019: नागरिकता कानून पर असम में विरोध प्रदर्शन के बीच कर्फ्यू में ढील, जानें बड़ी बातें

नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) के विरोध में हो रहे प्रदर्शन को देखते हुए असम के बाद मेघालय (Meghalaya)  की राजधानी शिलांग (Shillong) में भी इंटरनेट सेवाएं 48 घंटे के लिए रोक दी गई हैं.

नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) के विरोध में हो रहे प्रदर्शन को देखते हुए असम के बाद मेघालय (Meghalaya) की राजधानी शिलांग (Shillong) में भी इंटरनेट सेवाएं 48 घंटे के लिए रोक दी गई हैं.

नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) के विरोध में हो रहे प्रदर्शन को देखते हुए असम के बाद मेघालय (Meghalaya ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) के खिलाफ असम (Assam) में जारी प्रदर्शन के बीच शुक्रवार को सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक कर्फ्यू में ढील दी जाएगी. बता दें कि गुवाहाटी में गुरुवार को पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई हिंसक झड़प में दो लोगों की मौत हो गई थी, जबकि दो प्रदर्शनकारी गंभीर रूप से घायल हो गए थे. उधर, असम के बाद मेघालय (Meghalaya) की राजधानी शिलांग (Shillong) में भी प्रदर्शन के बाद इंटरनेट पर 48 घंटे के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया है. नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में गुवाहाटी समेत असम के कई शहरों में चप्पे-चप्पे पर सेना के जवान तैनात किए गए हैं.

    उधर, नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में पहली याचिका दायर की गई है. इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के 4 सांसदों ने इस बिल के खिलाफ याचिका दाखिल की. याचिका में कहा गया है कि भारत का संविधान धर्म के आधार पर वर्गीकरण की इजाजत नहीं देता. ऐसे में नागरिकता संशोधन बिल असंवैधानिक है. ये बिल संविधान के अनुच्छेद 14 के तहत ट्वीन टेस्ट पर खरा नहीं उतरता है.




    मामले की गंभीरता को देखते हुए सोशल मीडिया का 'दुरुपयोग' रोकने और कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है. अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह और राजनीतिक विभाग) संजय कृष्णा ने बताया कि लखीमपुर, धेमाजी, तिनसुकिया, डिब्रूगढ़, चराइदेव, शिवसागर, जोरहाट, गोलाघाट, कामरूप (मेट्रो) और कामरूप में इंटरनेट सेवाओं को रोक दिया गया है. उग्र प्रदर्शन को देखते हुए मेघालय में मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस पर भी रोक लगा दी गई है.

    इसे भी पढ़ें :- नागरिकता विधेयक: विमानन कंपनियों ने रद्द की असम की उड़ानें

    प्रदर्शनकारियों ने रेलवे स्टेशन पर बोला था हमला, कई जगह तोड़फोड़
    नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 के विरोध में असम में प्रदर्शन उग्र हो गया है. गुरुवार को गुवाहाटी में प्रदर्शनकारियों ने एक रेलवे स्टेशन पर हमल बोल दिया. वहीं, जगह-जगह आगजनी और तोड़फोड़ की गई. ऐसे में गुवाहाटी जाने वाली सभी ट्रेनें और फ्लाइट्स शुक्रवार तक के लिए कैंसिल कर दी गई हैं. वहीं, नागरिकता संशोधन बिल पर असम में हो रहे उग्र विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल ने अपना तीन दिवसीय भारत दौरा रद्द कर दिया है.



    इसे भी पढ़ें :- CAB पर बोले सिंगर पापोन- माफ करना ‌दिल्ली कल गा नहीं पाऊंगा, मेरा असम जल रहा है

    प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर दिया थ आश्वासन
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा है- 'मैं असम के अपने भाइयों और बहनों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि सीएबी के पारित होने के बाद उन्हें चिंता करने की कोई बात नहीं है. मैं उन्हें आश्वस्त करना चाहता हूं- कोई भी आपके अधिकारों, विशिष्ट पहचान और सुंदर संस्कृति को नहीं छीन सकता है. यह फलता-फूलता और विकसित होता रहेगा.' पीएम ने कहा कि - 'केंद्र सरकार और मैं खंड 6 की भावना के अनुसार असमिया लोगों के राजनीतिक, भाषाई, सांस्कृतिक और भूमि अधिकारों को संवैधानिक रूप से संरक्षित करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं.'


    इसे भी पढ़ें :- CAB 2019: बांग्लादेश ने गुवाहाटी में अपने मिशन की सुरक्षा बढ़ाने के लिए भारत से कहा

    Tags: Assam, BJP, Citizenship bill, Congress, Guwahati

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें