लाइव टीवी

मंत्रिमंडल ने बाह्य अंतरिक्ष के उपयोग, खोज के लिए भारत, मंगोलिया में समझौते को मंजूरी दी

भाषा
Updated: January 8, 2020, 6:01 PM IST
मंत्रिमंडल ने बाह्य अंतरिक्ष के उपयोग, खोज के लिए भारत, मंगोलिया में समझौते को मंजूरी दी
पीएम नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने शांतिपूर्ण और असैन्‍य उद्देश्‍यों के लिए बाह्य अंतरिक्ष के इस्‍तेमाल पर हुए समझौते को मंजूरी दी.

इसके लिए दोनों पक्ष एक संयुक्‍त कार्य समूह गठित कर सकेंगे, जिसमें भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के सदस्‍य और मंगोलिया (Mongolia) के संचार, सूचना प्रौद्योगिकी प्राधिकरण के सदस्‍य शामिल होंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्रिमंडल (Central Cabinet) ने शांतिपूर्ण और नागरिक उद्देश्यों के लिए बाह्य अंतरिक्ष (Outer space) के इस्‍तेमाल और खोज गतिविधियों के क्षेत्र में सहयोग पर भारत और मंगोलिया (Mongolia) के बीच समझौते को बुधवार को मंजूरी दे दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने शांतिपूर्ण और असैन्‍य उद्देश्‍यों के लिए बाह्य अंतरिक्ष के इस्‍तेमाल और वहां खोज पर दोनों देशों के बीच हुए समझौते को मंजूरी दी. सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार इस समझौते पर मंगोलिया के राष्‍ट्रपति की भारत यात्रा के दौरान 20 सितंबर 2019 को नई दिल्‍ली में हस्‍ताक्षर किए गए थे.

इस समझौते के तहत दोनों देश अंतरिक्ष विज्ञान, प्रौद्योगिकी (Technology) तथा पृथ्‍वी के बारे में जानकारियां प्राप्‍त करने के लिए दूरसंवेदी प्रणाली का उपयोग, उपग्रह संचार और उपग्रह आधारित दिशासूचक प्रणाली के अलावा अंतरिक्ष विज्ञान, ग्रहों की खोज, अंतरिक्ष यानों, अंतरिक्ष प्रणाली के साथ भू प्रणाली का उपयोग और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के इस्‍तेमाल के लिए सहयोग कर सकेंगे.



इस उद्देश्य के लिए दोनों पक्ष एक संयुक्‍त कार्य समूह गठित कर सकेंगे, जिसमें भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के सदस्‍य और मंगोलिया के संचार, सूचना प्रौद्योगिकी प्राधिकरण के सदस्‍य शामिल होंगे.



यह कार्य समूह समझौते की व्‍यवस्‍थाएं लागू करने के तौर-तरीकों और उनके लिए समय सीमा को निर्धारित करेगा. समझौते के तहत सहयोग की गतिविधियों पर होने वाले खर्च का फैसला दोनों पक्ष उपलब्‍ध वित्‍तीय संसाधनों और आवश्‍यकताओं के अनुरूप करेंगे. इस समझौते के माध्‍यम से दोनों देश अंतरिक्ष में प्रौद्योगिकी के इस्‍तेमाल के लिए संयुक्‍त गतिविधियां संचालित कर सकेंगे, जो आगे चलकर मानव जाति के लिए काफी फायदेमंद साबित होंगी.

 

 

यह भी पढ़ें -निजी भागीदारी से बनेंगे स्कूल-अस्पताल, बजट में हो सकता है ऐलान

 

 मलेशिया के PM को इस मुद्दे पर बयान देना पड़ा भारी, होगा करोड़ों का नुकसान

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 8, 2020, 6:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading