रेप के आरोपी बिशप के बचाव में मिशनरीज संस्‍था, कहा- निर्दोष को सूली पर नहीं चढ़ा सकते

बिशप पर एक नन के साथ 2014 से 2016 के बीच 13 बार रेप और अननेचुरल सेक्‍स करने का आरोप है.

News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 6:33 PM IST
रेप के आरोपी बिशप के बचाव में मिशनरीज संस्‍था, कहा- निर्दोष को सूली पर नहीं चढ़ा सकते
केरल में कई नन प्रदर्शन कर रही हैं.
News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 6:33 PM IST
केरल में नन से रेप के आरोपी बिशप का जीसस मिशनरीज संस्‍था ने बचाव किया. संस्‍थान ने क‍हा कि इस तरह के आरोपों पर एक मासूम आत्‍मा को सूली पर नहीं चढ़ाया जा सकता. उसकी ओर से कहा गया कि बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर लगाए गए आरोप बेबुनियाद है. संस्‍था की ओर से जारी बयान में कहा गया है, 'हम कोच्चि में हो रहे प्रदर्शन की कड़ी आलोचना करते हैं. इस तरह के आरोपों के चलते हम एक पवित्र आत्‍मा को सूली पर नहीं चढ़ा सकते.' बता दें कि प्रदर्शन कर रही नन भी इसी संस्‍था से जुड़ी हुई हैं.

इस बीच पांच ननों ने शीर्ष पुलिस अधिकारियों पर मामले की जांच में रोड़े अटकाने के प्रयास करने का आरोप लगाया. विभिन्न कैथोलिक सुधार संगठनों ने रोमन कैथोलिक चर्च के बिशप के खिलाफ एक नन द्वारा दायर बलात्कार की शिकायत की जांच में पुलिस की ओर से कथित तौर पर ढिलाई बरते जाने के खिलाफ रविवार को यहां दूसरे दिन प्रदर्शन किया.

कोट्टायम में एक कान्वेंट की ननों ने जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ जांच अपराध शाखा को सौंपने के कथित रिपोर्टों की निंदा की. उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस अधिकारी बिशप फ्रैंको को बचाने के लिए मामले की जांच में देरी करने का प्रयास कर रहे हैं. प्रदर्शन में शामिल लोगों ने ‘अपनी सिस्टर’ के लिए न्याय की मांग की और उन्होंने वाइकोम के पुलिस उपाधीक्षक के.सुभाष द्वारा की जा रही जांच पर विश्वास जताया.

नन के आरोपों को खारिज करते हुए मिशनरीज संस्‍था ने कहा, 'हमें शक है कि नन को बाहरी तत्‍व प्रदर्शन के उकसा रहे हैं. रेप के आरोप निराधार हैं. जिस समय नन ने रेप के आरोप लगाए थे उस समय हम देख सकते थे कि वह बिशप के केरल के कार्यक्रमों के अनुसार ये आरोप लगा रही थी. उसका आरोप है कि उसके साथ पांच मई 2014 को रेप हुआ लेकिन इसके बाद भी बिशप ने उसके बुलावे पर एक कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया.'

बिशप पर एक नन के साथ 2014 से 2016 के बीच 13 बार रेप और अननेचुरल सेक्‍स करने का आरोप है. मामले की जांच कर रही एक विशेष टीम ने बताया कि शुरुआती जांच से पता चला है कि बिशप ने अपने पद का दुरुपयोग किया और नन से रेप किया.

प्रदर्शन कर रहीं नन में से एक ने बताया, 'हमें डीएसपी की जांच में पूरा यकीन है. लेकिन आला अधिकारी उन्‍हें बिशप को कस्‍टडी में लेने की अनुमति नहीं दे रहे हैं. उन्हें स्वतंत्र एवं निष्पक्ष ढंग से जांच नहीं करने दी जा रही है. मामले को दबाने के लिए वे जांच में देरी करने का प्रयास कर रहे हैं.'
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर