Assembly Banner 2021

नस्लवाद पर ब्रिटेन को दो टूक सुनाकर भारत ने दे दिया है बड़ा संदेश

विदेश मंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी की भूमि होने के कारण हम नस्लवाद की समस्या से आंखें नहीं चुरा सकते हैं. फाइल फोटो

विदेश मंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी की भूमि होने के कारण हम नस्लवाद की समस्या से आंखें नहीं चुरा सकते हैं. फाइल फोटो

Oxford Student Row: कर्नाटक से ताल्लुक रखने वाली 22 वर्षीय छात्रा रश्मि सामंत को फरवरी में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 15, 2021, 7:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटेन की संसद (British Parliament) में किसानों के मुद्दे पर हुई चर्चा के बाद भारत ने नस्लवाद के मुद्दे पर लंदन को दो टूक सुनाया है. विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S. Jaishankar) ने सोमवार को संसद में कहा कि भारत नस्लवाद (Racism) से आंखें नहीं चुरा सकता है. दरअसल विदेश मंत्री बीजेपी के एक नेता द्वारा रश्मि सामंत का मुद्दा उठाने पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे. कर्नाटक से ताल्लुक रखने वाली 22 वर्षीय छात्रा रश्मि सामंत को फरवरी में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा था.

विदेश मंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी की भूमि होने के कारण हम नस्लवाद की समस्या से आंखें नहीं चुरा सकते हैं. खासतौर पर उस देश में जहां बड़ी संख्या में भारतीय रहते हैं. ब्रिटेन के साथ हमारे मजबूत रिश्ते हैं और आवश्यकता पड़ी तो इस मुद्दे को बड़े स्तर पर भी उठाएंगे. विदेश मंत्री ने कहा कि भारत मामले पर करीबी निगाह रखे हुए हैं. उन्होंने कहा, "हम इस मुद्दे पर बेहद करीबी निगाह रखे हुए हैं. जब जरूरत होगी इस मुद्दे को उठाएंगे और हम नस्लवाद के खिलाफ हर लड़ाई का समर्थन करेंगे, चाहे वह किसी भी तरह की असहिष्णुता हो."

'रश्मि सामंत के खिलाफ गईं टिप्पणियां'
ऑक्सफोर्ड छात्र संघ (एसयू) की पहली भारतीय महिला अध्यक्ष निर्वाचित होकर ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में इतिहास बनाने वालीं रश्मि सामंत ने अपनी पूर्व की कुछ टिप्पणियों के कारण विवाद के बीच पद से इस्तीफा दे दिया है. सामंत के कुछ पुराने सोशल मीडिया पोस्ट सामने आए हैं जिसे कई छात्रों ने ‘नस्ली’ और ‘असंवेदनशील’ बताया है. इसमें 2017 में जर्मनी में बर्लिन होलोकास्ट मेमोरियल की यात्रा के दौरान एक पोस्ट में नरसंहार से जुड़ी टिप्पणी और मलेशिया की यात्रा के दौरान तस्वीर को ‘चिंग चांग’ शीर्षक देने से जुड़ा विवाद है, जिससे चीन के छात्र नाराज हो गए.
'रश्मि ने मांगी माफी'


छात्रों के अखबार ‘चेरवेल’ में प्रकाशित एक खुले पत्र में सामंत ने कहा, ‘‘हालिया घटनाक्रम से आपको मेरी क्षमा याचना पर शायद यकीन ना हो लेकिन मुझे यह लिखते हुए बहुत दुख हो रहा है कि मैंने छात्र समुदाय का भरोसा खो दिया है, जिन्होंने मुझे वोट दिया था और मेरे घोषणापत्र में विश्वास जताया था.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं सभी छात्रों से माफी मांगती हूं जो मेरी टिप्पणी या किसी गतिविधि से आहत हुए हैं और मैं फिर से आपका भरोसा जीतना चाहती हूं.’’

विवाद के बाद दिया इस्तीफा
हालांकि, विवाद नहीं थमने के बाद उन्होंने अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने का फैसला किया. उन्होंने मंगलवार को कहा, ‘‘ऑक्सफोर्ड छात्र संघ के अध्यक्ष के चुनाव के दौरान हुए विवाद के मद्देनजर मुझे लगता है कि पद से हट जाना ज्यादा बेहतर होगा.’’

कर्नाटक में उडुपी की रहने वाली सामंत इसके बाद भारत में अपने परिवार के पास चली गयीं और सोशल मीडिया पर उन्होंने अपने कई पुराने पोस्ट भी हटा दिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज