कांग्रेसी सांसद का कैप्टन अमरिंदर पर बड़ा हमला, कहा-सवाल करने से दिमागी संतुलन हिला

कांग्रेसी सांसद का कैप्टन अमरिंदर पर बड़ा हमला, कहा-सवाल करने से दिमागी संतुलन हिला
कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रताप बाजवा की सुरक्षा राज्य सरकार ने हटा ली है. (फाइल फोटो)

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रताप सिंह बाजवा (Pratap Singh Bajwa) ने कहा है कि मैं कैप्टन अमरिंदर सिंह से पूछना चाहता हूं कि उन्हें लोकतंत्र में भरोसा है या नहीं. वो चुने हुए सीएम हैं, पटियाला के महाराजा नहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 9:41 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पंजाब में कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रताप सिंह बाजवा (Pratap Singh Bajwa) ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) पर फिर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि मैं कैप्टन अमरिंदर सिंह से पूछना चाहता हूं कि उन्हें लोकतंत्र में भरोसा है या नहीं. वो चुने हुए सीएम हैं, पटियाला के महाराजा नहीं. दरअसल प्रताप बाजवा अपनी सुरक्षा हटाए जाने के फैसले को लेकर कैप्टन सरकार से खफा हैं. मंगलवार को उन्होंने कहा था कि अगर उन्हें कुछ भी हुआ तो इसके लिए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पंजाब के डीजीपी जिम्मेदार होंगे.

अब प्रताप बाजवा ने कहा है कि जब हमने जहरीली शराब की वजह से हुई मौतों का मामला उठाया तो कैप्टन साहेब ने अपना मेंटल बैलेंस खो दिया है. वो सोचते हैं कि उनकी ही पार्टी का सांसद सवाल कैसे पूछ सकता है! गौरतलब है कि पंजाब सरकार ने तीन दिनों पहले ही ही प्रताप बाजवा की सुरक्षा हटाई है. सरकार की तरफ से कहा गया है कि ऐसा राज्य में कोरोना की वजह से पुलिसकर्मियों की कमी को देखते हुए किया गया है. लेकिन बाजवा ने अब इस मामले पर डीजीपी को खत लिखकर प्रतिक्रिया दी है. प्रताप बाजवा ने सुरक्षा हटाए जाने के कदम को राजनीतिक रूप से प्रेरित करार दिया है.


कैप्टन के खिलाफ खोला मोर्चा
प्रताप बाजवा ने पंजाब की राजनीति में कैप्टन अमरिंदर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. उनके साथ एक अन्य राज्यसभा सांसद शमशेर सिंह ढुलो ने भी कहा है कि अगर राज्य में पार्टी को बचाना है तो अमरिंदर सिंह और राज्य कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ को हटाना होगा. उन्होंने यह भी कहा था कि अगर पार्टी आलाकमान ऐसा निर्णय नहीं लेता है तो कांग्रेस का पंजाब में वही हाल होगा जो सिद्धार्थ शंकर राय (पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री) के बाद पश्चिम बंगाल में हुआ.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज