Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    कृषि कानूनों का विरोध: अमरिंदर सिंह के धरने से पहले जंतर-मंतर तक कांग्रेस विधायकों ने निकाला मार्च

    दिल्ली स्थित जंतर मंतर तक मार्च करते पंजाब के कांग्रेस विधायक
    दिल्ली स्थित जंतर मंतर तक मार्च करते पंजाब के कांग्रेस विधायक

    मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amrinder Singh) धरने पर बैठेंगे. सिंह ने अब राष्ट्रीय राजधानी स्थित जंतर मंतर पर धरना देने का फैसला किया है. इसके साथ ही कुछ कांग्रेस विधायकों का आरोप है कि पंजाब दिल्ली सीमा पर उनकी गाड़ियां रोकी गईं.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 4, 2020, 12:53 PM IST
    • Share this:
    चंडीगढ़/ नई दिल्ली.  कृषि कानूनों के मुद्दे पर पंजाब सरकार के प्रतिनिधिमंडल को राष्ट्रपति भवन द्वारा मुलाकात के लिए समय दिए जाने से इनकार करने के बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amrinder Singh) धरने पर बैठेंगे. अमरिंदर सिंह ने दिल्ली पुलिस की सलाह मानते हुए राजघाट की जगह अब राष्ट्रीय राजधानी स्थित जंतर मंतर पर धरना देने का फैसला किया है. इस बाबत एक ट्वीट में अमरिंदर सिंह ने कहा- 'राज घाट पर महात्मा गांधी जी को मेरा सम्मान देने के लिए दिल्ली जा रहा हूं. हम अपने किसानों के मुद्दों को उठाएंगे और केंद्र द्वारा पंजाब को मालगाड़ियों की तत्काल बहाली की मांग करेंगे.'

    The Tribune के अनुसार - 'वह बुधवार दोपहर राजघाट पर राष्ट्रपिता का सम्मान करने के बाद जंतर मंतर पहुंचेंगे.' मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि पहले राजघाट पर होने वाले विधायकों का धरना अब राष्ट्रीय राजधानी में विभिन्न सुरक्षा प्रतिबंधों के मद्देनजर दिल्ली पुलिस के अनुरोध पर जंतर मंतर पर कर दिया गया है.'

    इससे पहले  पंजाब के विधायकों ने विरोध प्रदर्शन करने के लिए पंजाब भवन से जंतर मंतर तक मार्च निकाला. पंजाब मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार प्रदर्शन 'राज्य की बिजली संकट और महत्वपूर्ण आवश्यक आपूर्ति की स्थिति का मुद्दा उठाएगा.'







    इसके साथ ही दिल्ली के धरने में शामिल होने आ रहे कांग्रेस विधायक नवजोत सिंह सिद्धू ने आरोप लगाया है कि उनकी गाड़ी को पंजाब-दिल्ली सीमा पर रोक लिया गया. एक वीडियो पोस्ट कर सिद्धू ने यह दावा किया. सिद्धू उन विधायकों के साथ दिल्ली आ रहे थे जो 'क्रमिक धरने' में कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुआई में धरना देंगे.



    विपक्ष ने कहा- ड्रामा कर रही कांग्रेस
    दूसरी ओर पंजाब की विपक्षी पार्टियों- शिरोमणि अकाली दल, भाजपा और आप ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के दिल्ली में एक क्रमिक ‘धरने’ का नेतृत्व करने के फैसले को मंगलवार को ‘ड्रामा और फोटो खिंचवाने का मौका करार दिया.’

    इससे पहले दिन में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि केंद्र के कृषि कानूनों को लेकर उनके नेतृत्व वाले एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात करने से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा इनकार किये जाने के बाद वह बुधवार को दिल्ली के राजघाट पर कांग्रेस के विधायकों के एक क्रमिक ‘धरने’ का नेतृत्व करेंगे.

    मुख्यमंत्री सिंह ने यह भी कहा कि दिल्ली में प्रदर्शन केंद्र द्वारा मालगाड़ियों को निलंबित किये जाने के कारण राज्य में बिजली संकट और आवश्यक आपूर्ति की कमी को भी उजागर करेगा.

    मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने एक बयान में अमरिंदर से कहा कि वे दिल्ली में क्रमिक ‘धरने’ में शामिल न हों, बल्कि केंद्र के कृषि कानूनों को तत्काल निरस्त करने की मांग को लेकर राजघाट पर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू करें.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज