पंजाब: कैप्टन ने डीजीपी को दिए AAP और SAD के नेताओं के खिलाफ केस दर्ज करने के आदेश

अमरिंदर सिंह की तरफ से महामारी की दूसरी लहर को रोकने के लिए पाबंदियां लगाने से पहले ही उन्होंने ऐलान कर दिया था कि पंजाब में सत्ताधारी कांग्रेस कोई राजनीतिक सभा नहीं करेगी. (फाइल फोटो)

अमरिंदर सिंह की तरफ से महामारी की दूसरी लहर को रोकने के लिए पाबंदियां लगाने से पहले ही उन्होंने ऐलान कर दिया था कि पंजाब में सत्ताधारी कांग्रेस कोई राजनीतिक सभा नहीं करेगी. (फाइल फोटो)

Punjab Politics Update: आप के धरने को राज्य में लागू वीकेंड कर्फ्यू (Weekend Curfew) का उल्लंघन करार देते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि ऐसे धरने और राजनीतिक जलसे महामारी के बड़े स्तर पर फैलाव का कारण बन सकते हैं और इनसे कठोरता से निपटना पड़ेगा.

  • Share this:

चंडीगढ़. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DGP) को पिछले कुछ दिनों से धरना प्रदर्शन कर रहे आम आदमी पार्टी (AAP) और शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) के नेताओं के खिलाफ आपदा प्रबंधन एक्ट के अधीन केस दर्ज करने के निर्देश दिए हैं. शिरोमणि अकाली दल और आम आदमी पार्टी की ऐसी गतिविधियों को गैर जिम्मेदाराना और महामारी के फैलाव के मद्देनजर सख्त पाबंदियों की घोर उल्लंघना करार देते हुए मुख्यमंत्री ने डीजीपी दिनकर गुप्ता (DGP Dinkar Gupta) को कहा कि इस कानून के अंतर्गत ऐसे नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करें.

विपक्षी नेताओं को नहीं है पंजाब की चिंता

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब ऐसे समय जब लोग विवाहों और संस्कारों तक में भी इकठ्ठा नहीं हो सकते तो इन पार्टियों के नेताओं और वर्करों का मनमाना व्यवहार दर्शाता है कि उनको पंजाबियों की सेहत पर सुरक्षा की कोई चिंता नहीं है. उन्होंने कहा कि इस तरह के व्यवहार को कदाचित बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

Youtube Video

यह भी पढ़ें: पंजाब में कांग्रेस सरकार की सबसे बड़ी दुश्मन क्या खुद कांग्रेस है?

आप के धरने को राज्य में लागू वीकेंड कर्फ्यू का उल्लंघन करार देते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि ऐसे धरने और राजनीतिक जलसे महामारी के बड़े स्तर पर फैलाव का कारण बन सकते हैं और इनसे कठोरता से निपटना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि राजनीतिक नेताओं की समाज के प्रति बड़ी जिम्मेदारी बनती है, जिसको इन पार्टियों ने छोड़ दिया है, इससे पंजाब के लोगों का जीवन खतरे में पड़ा है.




मुख्यमंत्री ने दोहराया कि यह समय राजनीतिक खेल खेलने और ओछे राजनीतिक हथकंडे अपनाने का नहीं, बल्कि इस महामारी के खात्मे के लिए इकठ्ठा मिलकर लड़ने का है.जिक्र योग्य है कि मुख्यमंत्री की तरफ से महामारी की दूसरी लहर को रोकने के लिए पाबंदियां लगाने से पहले ही उन्होंने ऐलान कर दिया था कि पंजाब में सत्ताधारी कांग्रेस कोई राजनीतिक सभा नहीं करेगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज