लाइव टीवी

शनि ग्रह का बड़ा रहस्य हुआ उजागर, कैसिनी अंतरिक्ष यान ने की मदद

Vikas Sharma | News18Hindi
Updated: April 7, 2020, 4:16 PM IST
शनि ग्रह का बड़ा रहस्य हुआ उजागर, कैसिनी अंतरिक्ष यान ने की मदद
वैज्ञानिकोे के लिए यह खोज सौरमंडल के ग्रहों के वायुमंडल को समझने में मदद करेगी. (प्रतीकात्मक फोटो)

वैज्ञानिकों ने शनि ग्रह (Saturn) के वायुमंडल (Atmosphere) के बारे में एक अहम खोज की है. इसके लिए उन्हें कैसिनी अंतरिक्ष यान (Cassini spacecraft) के आंकड़ों से मदद मिली.

  • Share this:
नई दिल्ली. वैज्ञानिकों को शनि ग्रह (Saturn) के बारे में एकत्र किए गए आंकड़ों से खास जानकारी हासिल करने में सफलता मिली है. सालों पहले शनि ग्रह की ओर भेजे कैसिनी उपग्रह के आंकड़ों के अध्ययन से उन्होंने शनि ग्रह के ऊपरी वायुमंडल (Atmosphere) में तापमान ज्यादा होने का रहस्य पता कर लिया है.  

गर्म है इन ग्रहों के वायुमंडल की ऊपरी सतहें
हमारे सौरमंडल के अन्य ग्रह शनि, गुरु, यूरेनस और नेप्च्यून के वायुमंडल की ऊपरी सतहों पर पृथ्वी की ही तरह गर्म गैस से बनी हैं. लेकिन ये ग्रह पृथ्वी की तरह सूर्य के पास नहीं हैं. फिर भी यहां पृथ्वी की तरह ही ये सतह गर्म हैं. इनके गर्म होने का रहस्य वैज्ञानिकों के लिए अभी तक एक बड़ी पहेली बना हुआ था.

कैसिनी के आंकड़ों ने खोला यह राज



अमेरिका की अंतरिक्ष अनुसंधान संस्था (नासा) के आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला है कि उसके अंतरिक्ष यान कैसिनी ने इस रहस्य की व्याख्या खोजी कि आखिर ऐसा क्या है जो शनि ग्रह की इन वायुमंडलीय सतहों को इतना गर्म रखता है.



Space
वैज्ञानिकों के ये आंकड़े कैसिनी अंतरिक्षयान से मिले थे. (प्रतीकात्मक फोटो)


शनि के ध्रुवों पर सुबह होती है खास घटना
दक्षिणी कैलिफोर्निया स्थित नासा की जैट प्रपल्शन प्रयोगशाला की साइट पर प्रकाशित शोध के अनुसार शनि ग्रह के ध्रुवों पर सुबह के समय होने वाली घटनाएं इसके लिए जिम्मेदार हैं. सौर हवाएं, शनि के उपग्रह से आवेशित कण मिलकर ध्रुवों पर सूर्योदय के समय वायुमंडल के उपरी हिस्से का तापमान बढ़ा देते हैं.

तापमान और धनत्व के बीच है खास संबंध
हाल ही में नेचर एस्ट्रोनॉमी में प्रकाशित इस शोध में शनि के इस वायुमंडल के ऊपरी हिस्से के तापमान और घनत्व के बीच का संबंध संभवतः पहली बार बताया गया है. वैज्ञानिकों के अनुसार इस क्षेत्र को अभी तक अच्छी तरह से समझा ही नहीं गया था.

कैसे हो जाती हैं वहां गैसें गरम
वैज्ञानिक इस बात की पूरी तस्वीर समझने में कामयाब रहे कि किस तरह से गर्मी वहां के वायुमंडल के उस हिस्से में आती है और सूर्योदय के समय आवेशित धाराएं शनि के वायुमंडल के ऊपरी हिस्से में हवाओं को बहाकर वहां गर्मी पैदा कर देती हैं. इस ग्रह का वायु संचार इस ऊर्जा को बांट देता है और जितना सूर्य किरणें इसे गर्म कर सकती हैं उससे दो गुने तापमान तक गर्म कर देता है.

NASA
नासा कई लंबे प्रोजक्ट बड़ी अहम खोज हासिल करने में कामयाब हुए हैं.


दोगनी गर्म हो जाती हैं इन हिस्सों में गैसें
शोध पर काम कर रही कैसिनी की अल्ट्रावॉयलट इमेजिंग स्पेक्टोग्राफ  (UVIS) टीम के सदस्य टॉमी कोस्किनेन ने कहा, “ ये नतीजे ग्रहों के ऊपरी वायुमंडल को समझने के लिए बहुत अहम हैं. ये हमें यह  समझने में मदद करेंगे कि क्यों वायुमंडल के ऊपरी हिस्से नीचे के हिस्सों से गर्म होते हैं जबकि ये ग्रह सूर्य से बहुत दूर होने के कारण ठंडे होने चाहिए.'

कैसिनी ने जुटाए ये आंकड़े
जैट प्रपल्शन प्रयोगशाला (JPL) कैसिनी का प्रबंधन करती है जिसे शनि ग्रह के अध्ययन के लिए अंतरिक्ष में भेजा गया था. कैसिनी ईधन खत्म होने से पहले 13 साल तक शनि ग्रह के ऑर्बिटर (कृत्रिम उपग्रह) की तरह काम करता रहा.

शनि के 22 चक्कर लगाए थे कैसिनी ने पहले
 कैसिनी ने ही इस संभावना के बारे में पता लगाया था कि शनि के उपग्रह एनसेलाडस में जीवन के लिए उपयुक्त हालात हो सकते हैं. यह शनि के वातावरण में सितंबर 2017 में गया था लेकिन उससे पहले उसने शनि के 22 चक्कर लगाए थे.

आखिरी चक्कर में जुटे ये खास आंकड़े
अपने आखिरी चक्कर में ही कैसिनी ने ये खास आंकड़े दिए जिसमें शनि के वायुमंडल के तापमान की जानकारी थी. कैसिनी का उद्देश्य शनि के पीछे से गुजरते हुए ओरिओन और कानिस मेजर तारा समूह का अध्ययन करना भी था. इसने इस बात की जानकारी जुटाई कि ये तारा समूह शनि ग्रह पर उदय और अस्त होते समय उसके वायुमंडल पर क्या प्रभाव डालते हैं.

Space
कैसिनी ने 13 साल तक नासा को जानकारियां दी हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)


सूर्योदय का समय भी अहम
वायुमंडल के घनत्व ने वैज्ञानिकों को तापमान संबंधी जानकारियां भी दीं. ऊंचाई बढ़ने से घनत्व कम होना और इसके घटने की दर की तापमान पर निर्भरता जैसे तत्व अहम थे. उन्होंने पाया कि सूर्योदय के समय आवेशित धारा (Electric currnets) ऊपरी वायुमंडल को गर्म करती है.

अन्य ग्रह के वायुमंडल को भी समझने में मिलेगी मदद
घनत्व और तापमान दोनों के ही आंकड़ों ने वैज्ञानिकों की हवा की गति मापने में मदद की. शनि के ऊपरी वायुमंडल को समझने से वैज्ञानिकों को शनि अंतरिक्ष के मौसम को समझने में मदद मिलेगी कि वह कैसे सौरमंडल के अन्य ग्रह को प्रभवित करता है.

यह भी पढ़ें:-

जानें इजरायल क्यों बनाएगा ऐसे मास्क, जिसमें छिप जाए लंबी दाढ़ी

30 देशों ने भारत से की Hydroxychloroquine की मांग, विदेश मंत्रालय लेगा फैसला

400 साल पहले महामारी के समय ली प्रतिज्ञा को अब तक निभा रहे गांववाले

Ozone Layer में बन रहा है एक और Hole, कहां बन रहा है यह और कितना है खतरनाक

पता लगी संसार की सबसे बड़ी मछली की उम्र , शीत युद्ध के Atomic Tests ने की मदद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 7, 2020, 3:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading