लाइव टीवी

कम नहीं हो रहीं चिदंबरम की मुश्किलें, CBI ने फिर किया जमानत याचिका का विरोध

News18Hindi
Updated: September 20, 2019, 6:37 PM IST
कम नहीं हो रहीं चिदंबरम की मुश्किलें, CBI ने फिर किया जमानत याचिका का विरोध
चिदंबरम की जमानत याचिका का जांच एजेंसी, केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने विरोध किया है.

चिदंबरम की जमानत याचिका का जांच एजेंसी, केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने विरोध किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2019, 6:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस  (Congress) नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P chidambaram) की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) स्थित तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में बंद चिदंबरम ने दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High court) में जमानत याचिका दायर की थी. चिदंबरम की इस याचिका का जांच एजेंसी, केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI)  ने विरोध किया है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 'CBI ने कहा कि इस मामले की जांच अभी चल रही है, ऐसे में इन्हें जमानत नही दी जानी चाहिए. पी चिदंबरम बेहद प्रभावशाली व्यक्ति है अगर उन्हें जमानत दी जाती है तो गवाहों को प्रभावित कर सकते है.'

 


Loading...

CBI ने कहा कि 'चिदंबरम को जमानत देने से भ्रष्टाचार के मामलों में गलत परिपाटी तय होगी, यह जन विश्वास से धोखे का एक स्पष्ट मामला है.' कहा गया है कि 'वित्तीय गबन की मात्रा और उच्च सार्वजनिक पद का दुरुपयोग चिदम्बरम को किसी भी राहत के अधिकार से वंचित करते हैं.'

23 सितंबर को जमानत याचिका पर सुनवाई
बता दें कि INX Media मामले में जेल में बंद चिदंबरम के मामले में 23 सितंबर को जमानत याचिका पर सुनवाई है.

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम पर आरोप है कि उन्होंने पद पर रहते हुए आईएनएक्स मीडिया को साल 2007 में 305 करोड़ रु. लेने के लिए विदेशी निवेश प्रोत्साहन बोर्ड से मंजूरी दिलाई थी. मनी लॉन्ड्रिंग के इस मामले में ईडी पूर्व वित्त मंत्री से पूछताछ कर रही है. चिदंबरम इस मामले में जमानत के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर कर चुके हैं. इस पर 23 सितंबर को सुनवाई होगी.

जयराम रमेश ने की टिप्पणी
वहीं कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश (Jairam ramesh) ने कहा कि 'हमारे पूर्व गृहमंत्री चिदंबरम के खिलाफ सरकार द्वारा चलाया गया एक अभियान है, जिसमें चिदंबरम के खिलाफ उकसाने वाली राजनीति में आईएनएक्स मीडिया से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों और विवरणों का उल्लेख नहीं किया गया है.'

जयराम रमेश ने कहा कि 'जांच एजेंसियों ने कभी नहीं कहा कि अधिकारियों ने कुछ भी गलत किया है, फिर कैसे मंत्री को दोषी ठहराया जा सकता है. आप मुझसे पूछते हैं कि क्या अधिकारियों को अब गिरफ्तार किया जाना चाहिए, तो मैं कहूंगा कि पूर्व एफएम ने स्पष्ट रूप से कहा है कि कुछ भी गलत नहीं किया गया है, फिर किसी अधिकारी को क्यों गिरफ्तार किया गया है? यह बहुत स्पष्ट है कि किंगपिन सरकार में है जो इस एजेंडे को चला रहे हैं न कि चिदंबरम.'

यह भी पढ़ें:  तिहाड़ जेल में दर्द से कराह रहे हैं पी चिदंबरम, बीमारी के कारण वजन भी घटा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 5:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...