अपना शहर चुनें

States

CBI में घमासान: जेटली बोले- सच्चाई का बाहर आना देश के हित में

वित्त मंत्री अरुण जेटली (फ़ाइल फोटो)
वित्त मंत्री अरुण जेटली (फ़ाइल फोटो)

सीबीआई में मचे घमासान पर वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सीबीआई में हाल में हुए घटनाक्रम से उसकी प्रतिष्ठा धूमिल हुई है. देश इसे सहन नहीं कर सकता. लिहाजा सच्चाई का सबके सामने आना जरूरी है.

  • News18India
  • Last Updated: October 26, 2018, 4:28 PM IST
  • Share this:
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सकारात्मक बताया है. उन्होंने कहा कि सरकार ने इस पूरे मामले में जो कदम उठाए हैं, सुप्रीम कोर्ट का फैसला उन्हें ही बल देता है.

जेटली ने कहा कि सीबीआई में हाल में हुए घटनाक्रम से उसकी प्रतिष्ठा धूमिल हुई है. उन्होंने कहा, 'सीबीआई विवाद में सच्चाई का बाहर आना देश के हित में जरूरी है. सीवीसी जांच से सच सामने आ जाएगा. हमारा देश ये सहन नहीं कर सकता है कि भ्रष्टाचार की जांच करने वाली एजेंसी के दो बड़े अधिकारी खुद जांच के घेरे में आ जाएं'.

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के डायरेक्टर आलोक वर्मा की अर्जी पर शुक्रवार को सीबीआई, केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) और केंद्र सरकार से जवाब तलब किया.



वित्त मंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश पर टिप्पणी करते हुए कहा, 'आज जो सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है वो एक बेहद सकारात्मक कदम है. एक ही केस में एजेंसी के डायरेक्टर का एक मत और स्पेशल डायरेक्टर का दूसरा मत है. वो एजेंसी जो करप्शन की जांच करती है उसी के दो बड़े अधिकारियों पर आरोप लगे तो उसकी जांच महत्वपूर्ण हो जाती है. सीवीसी के सामने सीबीआई अकाउंटेबल है. इसपर सीवीसी ने फैसला दिया जिसे सरकार ने स्वीकार किया'.
सुप्रीम कोर्ट ने क्या दिया है फैसला?

कोर्ट ने निर्देश दिया कि सीबीआई के अंतरिम डायरेक्टर बनाए गए एम. नागेश्वर राव कोई नीतिगत फैसला नहीं करेंगे. बीते 23 अक्टूबर से अब तक राव की ओर से किए गए फैसलों पर अमल नहीं होगा और उनके सारे फैसले एक सीलबंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंपे जाएंगे.

अदालत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस ए. के. पटनायक सीबीआई अधिकारियों के बीच लग रहे आरोप-प्रत्यारोप की सीवीसी जांच की निगरानी करेंगे और दो हफ्ते के भीतर रिपोर्ट कोर्ट में सौंपनी होगी. सीजेआई रंजन गोगोई, जस्टिस एस के कौल और जस्टिस के एम जोसेफ की बेंच ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 12 नवंबर की तारीख तय कर दी.

ये भी पढ़ें:

सुप्रीम कोर्ट का आदेश- 10 दिन में पूरी हो जांच, नागेश्वर राव नहीं लेंगे कोई बड़ा फैसला

दो पन्नों के उस दस्तावेज ने कश्मीर को भारत का बना दिया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज