PMO का अधिकारी बनकर कर रहा था बोइंग कंपनी की जासूसी, CBI ने दर्ज किया केस

PMO का अधिकारी बनकर कर रहा था बोइंग कंपनी की जासूसी, CBI ने दर्ज किया केस
सीबीआई की टीम इस मामले मे ये भी जांचने का प्रयास करेगी की आरोपी अनिरूध सिंह का क्या कोई पूर्व में आपराधिक रिकार्ड तो नहीं

CBI ने इस मामले में शुरुआती जांच करने के बाद औपचारिक तौर पर एफआईआर 30 जून को दर्ज किया. ए

  • Share this:
नई दिल्ली. केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) ने अनिरूद्ध सिंह नाम के एक शख्स के खिलाफ मामला दर्ज किया है. ये मामला बेहद संगीन है. दरअसल आरोपी अनिरूद्ध सिंह अपने आपको प्रधानमंत्री मोदी के प्रिसिंपल सेक्रेटरी पीके मिश्रा के दफ्तर में कार्य करने वाला अधिकारी बताता था. इसी पद के नाम पर वो बोइंग कंपनी द्वारा हुई किसी डीफेंस डील से जुड़े मामलों की जानकारी जुटाने में लगा हुआ था . लेकिन इस मामले में शक होने पर बोइंग कंपनी ने प्रधानमंत्री के दफ्तर (PMO) में लिखित तौर पर शिकायत दर्ज करवाई. मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रधानमंत्री के दफ्तर से इस मामले की जानकारी सीबीआई को दी गई और मामला दर्ज कर लिया गया.

क्या है ये डिफेंस डील का मामला?
बोइंग देश की एक काफी चर्चित कंपनी है, जो डिफेस डील से जुड़े कई प्रोजेक्ट पर पिछले कई सालों से लगातार काम कर रही है. राजधानी दिल्ली में संसद मार्ग पर इस कंपनी का दफ्तर भी है . इसी कंपनी के चीफ ऑफ स्टाफ के पद पर कार्यरत प्रवीणा के मेल आईडी से प्रधानमंत्री दफ्तर को 05 नवंबर 2019 को इसकी जानकारी दी गई थी. अनिरूद्ध सिंह नाम का ये शख्स अपने आप को जितेन्द्र सिंह के साथ काम करने वाला अधिकारी बता रहा था. जितेन्द्र सिंह दरअसल प्रधानमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी पीके मिश्रा के स्पेशल सहायक पद पर कार्यरत हैं. उनके साथ कार्य करने का दावा करके आरोपी अनिरूद्ध सिंह बोइंग कंपनी के दफ्तर में कई बार कॉल करके कुछ रक्षा सौदा से जुड़े मसले की जानकारी लेने का प्रयास कर रहा था. जब इस मामले की जानकारी प्रधानमंत्री दफ्तर को दी गई तो इसके बाद 22 जनवरी 2020 को पीएमओ ने तुरंत इसे जांच के लिए केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई को सौंप दिया.

30 जून को दर्ज किया गया FIR
सीबीआई ने इस मामले में शुरुआती जांच करने के बाद औपचारिक तौर पर एफआईआर 30 जून को दर्ज किया. एफआईआर दर्ज करने में इतनी देर क्यों हुई इस मामले पर सीबीआई के तरफ से औपचारिक तौर पर कोई जानकारी नहीं दी गई. अब इस मामले में सीबीआई कई महत्वपूर्ण मुद्दों को तफ्तीश करने में जुट गई है.



ये भी पढ़ें:-कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे सहित 35 लोगों पर FIR, कई गांवों में छापेमारी

कई बड़े खुलासे हो सकते हैं
सीबीआई की टीम इस मामले मे ये भी जांचने का प्रयास करेगी की आरोपी अनिरूध सिंह का क्या कोई पूर्व में आपराधिक रिकार्ड तो नहीं है? इसके साथ ये भी तफ्तीश का मुख्य मसला होगा की उसने बोइंग कंपनी में किसके इशारे पर और क्यों फोन किया था? क्या अनिरूद्ध सिंह का किसी रक्षा क्षेत्र में कार्य करने वाली कंपनी या किसी डिफेंस डील कराने वाली कंपनी या एजेंट के साथ कनेक्शन तो नहीं? आने वाले वक्त में सीबीआई की टीम इन तमाम मुद्दों पर विस्तार से जांच पड़ताल करके काफी और खुलासे कर सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading