मेहुल चोकसी ने नष्‍ट किए सबूत, 2017 में हांगकांग में कंपनियों को किया अलर्ट: CBI

मेहुल चोकसी को भारत लाने के चल रहे हैं प्रयास. (File pic)

Mehul Choksi: सीबीआई ने दावा किया है कि मेहुल चोकसी के देश छोड़ने के एक महीने बाद गीतांजलि जेम्स द्वारा दिए गए आवेदन को पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के एक अधिकारी की मिलीभगत से गायब करने के इरादे से हटा दिया था.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) ने मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) और उसकी कंपनी गीतांजलि जेम्स सहित 21 अन्य के खिलाफ सबूत नष्ट करने का आरोप लगाते हुए एक पूरक आरोप पत्र (Supplementary Charge sheet) दाखिल की है. इसमें सीबीआई ने दावा किया है कि चोकसी के देश छोड़ने के एक महीने बाद गीतांजलि जेम्स द्वारा दिए गए आवेदन को पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के एक अधिकारी की मिलीभगत से गायब करने के इरादे से हटा दिया था.

    पिछले हफ्ते दाखिल की गई चार्जशीट में दावा किया गया है कि ये काम करते हुए मेहुल चोकसी को उसके खिलाफ जारी कानूनी कार्यवाही के बारे में पहले से जानकारी थी. चार्जशीट में दावा किया गया है कि चोकसी ने दिसंबर 2017 में हांगकांग का दौरा किया था. चोकसी ने अपनी आपूर्तिकर्ता संस्थाओं के डमी निदेशकों से मुलाकात की थी और उन्हें भारत में अपने गीतांजलि समूह की समस्याओं के बारे में बताया था.

    चार्जशीट में कहा गया है कि चोकसी ने उनसे यह भी अंदेशा जताया था कि उसे उसे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा जांच का सामना करना पड़ सकता है. पीएनबी की शिकायत में आरोप लगाया गया था कि चोकसी 4 जनवरी, 2018 को देश से भागा था और धोखाधड़ी की शिकायत फरवरी में दर्ज कराई गई थी.

    सबूतों को नष्ट करने के आरोप पर सीबीआई का दावा है कि मार्च-अप्रैल 2017 में पीएनबी कर्मचारियों द्वारा 165 धोखाधड़ी वाले लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) जारी किए जाने के बाद सभी मूल आवेदन जो बैंक के पास होने चाहिए थे, वो गीतांजलि समूह की कंपनियों को वापस कर दिए गए थे.

    चार्जशीट में दावा किया गया है कि इन आवेदनों के साथ ही दस्तावेजों को भी सीबीआई ने चोकसी के एक कर्मचारी द्वारा किराए पर लिए गए परिसर से तलाशी के दौरान बरामद किया गया था. कहा गया है कि दस्तावेजों को खेतवाड़ी की एक दुकान से दूसरे स्थान पर ले जाया गया था. इसका मकसद उसे गायब करना था.

    सीबीआई ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले में अपने पूरक आरोपपत्र में आरोप लगाया है कि भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के स्वामित्व वाली कंपनियों ने कथित रूप से फर्जी वचन पत्रों (लेटर्स ऑफ अंडरटेकिंग) और विदेशी साख पत्रों (फॉरेन लेटर्स ऑफ क्रेडिट) का इस्तेमाल कर पीएनबी से 6,344.96 करोड़ रुपये हासिल किए.

    सीबीआई ने पिछले सप्ताह मुंबई में एक विशेष अदालत में पूरक आरोपपत्र में ये बातें कही हैं. एजेंसी ने कहा कि पीएनबी के कर्मचारियों ने कथित रूप से चोकसी से हाथ मिलाकर बैंक के साथ बेइमानी की.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.