Assembly Banner 2021

CBI की कार्रवाई को IAS बी चंद्रकला ने बताया चुनावी छापा, लिखा- रे रंगरेज, तू रंग दे मुझको

IAS बी चंद्रकला (फाइल फोटो)

IAS बी चंद्रकला (फाइल फोटो)

अवैध खनन मामले में घिरीं बी चंद्रकला सीबीआई की कार्रवाई को चुनावी छापा बता रही हैं. उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि, 'चुनावी छापा तो पड़ता रहेगा, लेकिन जीवन के रंग को क्यों फीका किया जाय.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2019, 5:51 PM IST
  • Share this:
अवैध खनन घोटाले के मामले में सीबीआई द्वारा लखनऊ में मारे गए छापे के बाद एक बार फिर आईएएस अफसर बी चंद्रकला सुर्खियों में आ गई हैं. सोशल मीडिया पर हमेशा सक्रिय और काफी चर्चा में रहने वाली यूपी कैडर से 2008 बैच की आईएएस अधिकारी बी चंद्रकला मूलतः तेलंगाना की रहने वाली हैं. सोशल मीडिया पर उनकी लोकप्रियता का आलम यह है कि अधिकारी तो दूर कई मुख्यमंत्री भी उनसे पीछे हैं.

आईएएस एसोसिएशन के एक पदाधिकारी का मानना है कि किसी भी अधिकारी का सोशल मीडिया पर इतना सक्रिय रहना सही नहीं है. वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिलाधिकारी के पास इतना समय नहीं होता कि वह सोशल मीडिया पर इतना सक्रिय रहे. सोशल मीडिया की गाइडलाइंस पर सरकार चुप है. लेकिन मीडिया के साथ जो नियम लागू होते हैं वहीं सोशल मीडिया पर भी लागू होने चाहिए.

वहीं दूसरी ओर बी चंद्रकला इस छापे को चुनावी छापा बता रही हैं. उन्होंने सोशल मीडिया पर 'रे रंगरेज़! तू रंग दे मुझको' गाने की पंक्तियां लिखीं और अंत में लिखा कि, 'चुनावी छापा तो पड़ता रहेगा, लेकिन जीवन के रंग को क्यों फीका किया जाय. दोस्तों आप सब से गुजारिश है कि मुसीबतें कैसी भी हों, जीवन की डोर को बेरंग ना छोड़ें.'



देखिए ये पोस्ट:


बता दें कि अखिलेश यादव की सरकार में बी. चन्द्रकला आईएएस बनी थीं. इनकी पोस्टिंग पहली बार हमीरपुर जिले में जिलाधिकारी के पद पर की गई थी. आरोप है कि इन्होंने जुलाई 2012 के बाद हमीरपुर जिले में 50 मौरंग के खनन के पट्टे किए थे, जबकि ई-टेंडर के जरिए मौरंग के पट्टों पर स्वीकृति देने का प्रावधान था, लेकिन बी.चन्द्रकला ने सारे प्रावधानों की अनदेखी की थी.

ये भी पढ़ें: कौन हैं IAS बी चंद्रकला, जिनके घर CBI ने मारा छापा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज