Home /News /nation /

cbi registers three firs based on pmos complaint against those who claim to work in pmo

पीएमओ में काम करने का दावा करने वालों के खिलाफ CBI ने दर्ज की एफआईआर

अधिकारियों ने कहा केरल के डॉ शिवकुमार नाम का व्यक्ति खुद को पीएमओ अधिकारी बताता था. (फाइल फोटो)

अधिकारियों ने कहा केरल के डॉ शिवकुमार नाम का व्यक्ति खुद को पीएमओ अधिकारी बताता था. (फाइल फोटो)

अधिकारियों ने कहा कि दूसरा मामला पीएमओ में निजी सहायक के रूप में काम करने का दावा करने वाले एक व्यक्ति से संबंधित है, जिसने रविकांत खरब नाम के एक व्यक्ति को आश्वासन दिया था कि वह भारतीय रिजर्व बैंक में तीन लाख रुपये की रिश्वत के बदले नौकरी दिला देगा.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की इन शिकायतों के आधार पर तीन प्राथमिकी दर्ज की हैं कि कुछ धोखेबाज पीएमओ में काम करने का दावा करके प्रभाव डालने की कोशिश कर रहे थे. यह जानकारी अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को दी.

पीएमओ की ओर से दी गईं तीन शिकायतों की जांच सीबीआई ने अपने हाथ में ले ली है. अधिकारियों ने कहा कि एजेंसी ने अज्ञात व्यक्तियों, प्रिंस और शिवकुमार नामक लोगों के खिलाफ तीन अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज की हैं.

खुद को संयुक्त सचिव बताता था शख्स
शिकायत अब अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ प्राथमिकी में परिवर्तित हो गई है जिसमें आरोप लगाया गया है, ‘‘इस कार्यालय के संज्ञान में आया है कि चंडीगढ़ में तैनात मनोज कुमार मीणा, आईपीएस (2012, एजीएमयूटी) से व्यक्ति रोहित यादव द्वारा मोबाइल नंबर 7009808342 का उपयोग करके सम्पर्क किया गया. इस व्यक्ति ने खुद को संयुक्त सचिव, प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) होने का दावा किया और एक पुलिस कांस्टेबल के स्थानांतरण के लिए कहा.’’

इसमें कहा गया कि प्रथम दृष्टया इस व्यक्ति द्वारा खुद को पीएमओ अधिकारी दिखाने का मामला प्रतीत होता है क्योंकि ऐसे किसी अधिकारी द्वारा ऐसी कोई कॉल नहीं की गई थी और नंबर भी अधिकारी का नहीं है.

शख्स ने पीएमओ का निजी सहायक बताया
अधिकारियों ने कहा कि दूसरा मामला पीएमओ में निजी सहायक के रूप में काम करने का दावा करने वाले एक व्यक्ति से संबंधित है, जिसने रविकांत खरब नाम के एक व्यक्ति को आश्वासन दिया था कि वह भारतीय रिजर्व बैंक में तीन लाख रुपये की रिश्वत के बदले नौकरी दिला देगा. उन्होंने कहा कि आरोप है कि खरब ने ‘प्रिंस’ नाम के एक लड़के को 25,000 रुपये दिए.

तीसरा मामला केरल के रहने वाले शिवकुमार से संबंधित है जो खुद को कार्डियक सर्जन और भारत और नेपाल के प्रधानमंत्री का स्वास्थ्य सलाहकार बताता है.

अधिकारियों ने कहा, ‘‘शिकायत की जांच से पता चला है कि केरल के डॉ शिवकुमार नाम का व्यक्ति खुद को पीएमओ अधिकारी बताता था और अपने मोबाइल नंबर 080759-94461 से लोगों को कॉल करता था तथा कथित तौर पर खुद को माननीय प्रधानमंत्री का निजी सलाहकार बताता था.’’

Tags: CBI, Crime News, Delhi news, PMO

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर