अपना शहर चुनें

States

कोयला घोटाला: CBI ने पूर्व PM मनमोहन को दी क्‍लीन चिट, कहा- नहीं मिले सबूत

सीबीआई ने कोर्ट से कहा कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं जो प्रथम दृष्टया यह संकेत देते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कोयला ब्लॉक के आवंटन की किसी साजिश का हिस्सा थे।
सीबीआई ने कोर्ट से कहा कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं जो प्रथम दृष्टया यह संकेत देते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कोयला ब्लॉक के आवंटन की किसी साजिश का हिस्सा थे।

सीबीआई ने कोर्ट से कहा कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं जो प्रथम दृष्टया यह संकेत देते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कोयला ब्लॉक के आवंटन की किसी साजिश का हिस्सा थे।

  • भाषा
  • Last Updated: September 28, 2015, 7:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्लीपूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को तलब करने के अनुरोध का विरोध करते हुए सीबीआई ने विशेष अदालत से कहा कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं जो प्रथम दृष्टया यह संकेत देते हैं कि वह नवीन जिंदल समूह की कंपनियों को कोयला ब्लॉक के आवंटन की किसी साजिश का हिस्सा थे। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा की याचिका पर दलील देते हुए विशेष लोक अभियोजक आर एस चीमा ने अदालत से कहा कि आवेदन में दम नहीं है। कोड़ा ने सिंह और दो अन्य को कोयला घोटाला मामले में अतिरिक्त आरोपी के तौर पर तलब करने की मांग की थी।

चीमा ने विशेष सीबीआई न्यायाधीश भरत पराशर से कहा कि मामले के रिकॉर्ड प्रथम दृष्टया भी संकेत नहीं देते हैं कि तत्कालीन प्रधानमंत्री, जो उस वक्त कोयला मंत्री भी थे, उनका किसी भी तरीके से किसी आरोपी के साथ साठगांठ था और इस बात को दर्शाने के लिए कोई सबूत नहीं है कि समूची प्रक्रिया में उन्होंने यांत्रिक तरीके से काम किया।

चीमा ने कहा कि मौजूदा आवेदन आरोपी व्यक्ति की तरफ से मौजूदा मुकदमे को न सिर्फ विलंबित करने बल्कि अदालत का ध्यान मामले से दूसरी ओर भटकाने की भी युक्ति है।’’ अभियोजक ने यह भी कहा कि मामले में सीबीआई ने व्यापक और पूरी जांच की है और अदालत ने कोड़ा समेत 15 आरोपियों को तलब करने में कोई गलती नहीं पाई। उनके खिलाफ आरोप पत्र दायर किया गया था।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज