INX MEDIA CASE: SC में बोली CBI- नहीं चाहिए चिदंबरम की कस्टडी, तिहाड़ ही भेज दें

पी चिदंबरम को 21 अगस्त की रात को गिरफ्तार किया गया था. विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ आज उनकी अंतरिम जमानत याचिका पर सुनवाई करेंगे.

News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 3:36 PM IST
INX MEDIA CASE: SC में बोली CBI- नहीं चाहिए चिदंबरम की कस्टडी, तिहाड़ ही भेज दें
पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम
News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 3:36 PM IST
पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram ) आईएनएक्स मीडिया मामले (INX Media Case) में सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय की जांच का सामना कर रहे हैं. उन्हें सोमवार को सुप्रीम कोर्ट से जेल जाने से फौरी राहत मिली थी. लेकिन, सीबीआई ने इसपर आपत्ति जाहिर की थी. मंगलवार को सीबीआई की आपत्ति पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. इस दौरान अदालत में सीबीआई की तरफ से अपील की गई कि पूर्व वित्त मंत्री को न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया जाए. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि पी. चिदंबरम 5 सितंबर तक सीबीआई की हिरासत में ही रहेंगे. उसी दिन इसी मामले की सुनवाई होगी.

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट में कहा कि चिदंबरम की तरफ से सोमवार को ही अंतरिम जमानत के लिए अप्लाई किया गया था. जिस पर राउज़ एवेन्यू कोर्ट में सुनवाई होनी है. इसपर कोर्ट ने कहा कि ट्रायर कोर्ट में जमानत याचिका पर सुनवाई होने दीजिए. उसके बाद ही शीर्ष अदालत कोई फैसला देगा.

बता दें कि सोमवार को सीबीआई हिरासत की अवधि खत्म होने पर उन्हें अदालत में पेश किया गया था. सीबीआई ने मामले में चिदंबरम को किसी भी तरह की राहत दिये जाने का विरोध किया था और उनकी हिरासत अवधि एक दिन के लिये बढ़ाए जाने की मांग की थी. चिदंबरम को 21 अगस्त की रात को गिरफ्तार किया गया था.

कल क्या हुआ था अदालत में?

पी चिदंबरम की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लेकर दिल्ली की एक अदालत में सोमवार को भ्रम की स्थिति देखने को मिली. सीबीआई और बचाव पक्ष के वकीलों ने अपने-अपने पक्ष में आदेश पाने के लिये न्यायालय के निर्देश का उल्लेख किया.  शाम चार बजकर 20 मिनट पर जब सुनवाई शुरू हुई, तो सीबीआई की ओर से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ से कहा कि दिन में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गए निर्देश के संबंध में कुछ घटनाक्रम हुए हैं. उन्होंने कहा कि शीर्ष अदालत में जब सुबह सुनवाई हुई तो वह न्यायालय में मौजूद नहीं थे क्योंकि वो दिवंगत पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली की याद में आयोजित प्रार्थना सभा में हिस्सा ले रहे थे.

शीर्ष अदालत ने निचली अदालत से कहा था कि अंतरिम जमानत देने के आग्रह पर आज ही विचार करे. शीर्ष अदालत ने कहा था कि अगर निचली अदालत सोमवार को ही चिदंबरम के अंतरिम जमानत के अनुरोध पर विचार नहीं करती है तो उनकी सीबीआई हिरासत की अवधि और तीन दिन के लिये बढ़ा दी जायेगी. निचली अदालत में चिदंबरम की ओर से उपस्थित वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि वहो उच्चतम न्यायालय के पूर्व के आदेश के मद्देनजर अंतरिम जमानत याचिका दायर कर रहे हैं.

मेहता ने इसका विरोध करते हुए कहा कि जांच एजेंसी को पहले नोटिस जारी किया जाना चाहिये और जवाब देने के लिये वक्त दिया जाना चाहिये. मेहता ने कहा कि उन्होंने शीर्ष अदालत में मामले का उल्लेख किया,जिसने मामले की सुनवाई कल निर्धारित कर दी.
Loading...

क्या है INX मीडिया केस?
साल 2007 में इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी ने आईएनएक्स मीडिया नाम से कंपनी बनाई. फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (FIPB) ने आईएनएक्स मीडिया को 4.62 करोड़ रुपये के विदेशी निवेश की परमिशन दी थी, मगर आईएनएक्स मीडिया ने 305.36 करोड़ रुपये के विदेशी निवेश हासिल किए. इस रकम में से आईएनएक्स मीडिया ने गलत तरीके से 26% हिस्सा आईएनएक्स न्यूज में लगा दिया. इसके लिए FIPB की परमिशन नहीं ली गई. सीबीआई से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, वित्त मंत्रालय की फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट ने पाया कि आईएनएक्स मीडिया के पास मॉरिशस स्थित तीन कंपनियों से गलत तरीके पैसे आ रहे हैं.

(भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:

दिल्ली: सीलमपुर में चार मंजिला इमारत गिरी, 2 की मौत, कई घायल

मोर और कमल से यह साबित नहीं होता कि वहां मंदिर था: राजीव धवन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 7:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...