लाइव टीवी

सीबीआई ने छोटा राजन के खिलाफ पांच मामलों की जांच अपने हाथ में ली

News18Hindi
Updated: October 29, 2019, 9:26 PM IST
सीबीआई ने छोटा राजन के खिलाफ पांच मामलों की जांच अपने हाथ में ली
छोटा राजन के खिलाफ ये मामले वर्ष 2000 और 2002 के हैं. फाइल फोटो

केंद्रीय जांच एजेंसी (CBI) ने छोटा राजन (Chhota Rajan) गिरोह से जुड़े रंगदारी के दो मामलों की जांच भी अपने हाथों में ली है. ये मामले वर्ष 2000 और 2002 के हैं. सीबीआई (CBI) ने 1998 में हुए वकील पूनमचंद मालू के कथित अपहरण के मामले की जांच का जिम्मा भी संभाला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2019, 9:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो/सीबीआई (CBI) ने गैंगस्टर छोटा राजन (ChhotaRajan) के खिलाफ पांच नए मामलों की जांच अपने हाथ में ले ली है. इनमें से दो मामले अपराध की दुनिया में उसके शुरुआती दिनों के हैं जब वह अपने उस्ताद राजन नायर के लिए कथित तौर पर शराब की तस्करी करता था. अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि इन मामलों में से एक 1980 का है, जिसमें उसके साथ उसके उस्ताद नायर उर्फ बड़ा राजन का भी नाम आरोपी के रूप में है. दूसरा मामला 1983 का है, जब पुलिस ने उसकी कार का पीछा किया और जब उसे पकड़ने की कोशिश की गई तो उसने दो पुलिसकर्मियों को घायल कर दिया.

तीन अन्य मामले 1990 के दशक के अंत और 2000 के दशक के शुरू के हैं, जिनमें उसके आदेश पर उसके गिरोह के लोगों ने कथित तौर पर अपहरण और रंगदारी जैसे अपराधों को अंजाम दिया. छोटा राजन (Chhota Rajan), उसके उस्ताद नायर और साथियों-अब्दुल तथा रमेश शर्मा ने 21 नवंबर 1980 को एंथनी फर्नांडीस नाम के व्यक्ति पर उस समय कथित तौर पर चाकुओं से हमला किया था, जब वह शाम के समय राम नारकर मार्ग पर ऑटो रिक्शा का इंतजार कर रहा था.

1982 में अपने गिरोह की कमान संभाली छोटा राजन ने
नायर कथित तौर पर 1982 में मारा गया था, जिसके बाद राजन सदाशिव निकालजे उर्फ छोटा राजन ने गिरोह की कमान संभाली थी. सीबीआई ने 1983 के उस मामले की जांच भी अपने हाथ में ली है, जब मुंबई पुलिस ने शराब तस्करी के आरोप में छोटा राजन को गिरफ्तार किया था. इस दौरान उसने दो पुलिसकर्मियों पर चाकू से हमला किया था.

2015 में इंडोनेशिया में हुई थी छोटा राजन की गिरफ्तारी
केंद्रीय जांच एजेंसी (CBI) ने छोटा राजन गिरोह से जुड़े रंगदारी के दो मामलों की जांच भी अपने हाथों में ली है. ये मामले वर्ष 2000 और 2002 के हैं. सीबीआई ने 1998 में हुए वकील पूनमचंद मालू के कथित अपहरण के मामले की जांच का जिम्मा भी संभाला है. महाराष्ट्र सरकार ने 25 अक्टूबर 2015 को इंडोनिशया में छोटा राजन की गिरफ्तारी और फिर उसे भारत वापस लाए जाने के बाद 71 मामलों की जांच सीबीआई को सौंपी थी.

ये भी पढ़ें...
Loading...

सरकार को घेरने के लिए एक्शन में सोनिया गांधी, कांग्रेस 8 दिन में करेगी 35 प्रेस कॉन्फ्रेंस

डोनाल्ड ट्रंप का ऐलान- अमेरिकी सेना ने बगदादी के उत्तराधिकारी को भी किया ढेर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 9:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...