• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • सुशांत सिंह राजपूत के शव की अटॉप्सी रिपोर्ट बनाने वाले 5 डॉक्टरों का बयान दर्ज करेगी CBI

सुशांत सिंह राजपूत के शव की अटॉप्सी रिपोर्ट बनाने वाले 5 डॉक्टरों का बयान दर्ज करेगी CBI

पांचवा, वीड के बारे में बात करते हैं. आरोपी की ड्रग्स से जुड़ी चैट सामने आने के बाद उसका कहना है कि सुशांत ड्रग्स लेता था. जो पूरी तरह से बकवास है, अगर हम एक पल के लिए मानप भी लें तो वो किस तरह की पार्टनर थी जो अपने प्रियजनों को ड्रग्स देने का काम करती थी. इसके सिर्फ दो मलतब ही होते हैंय या तो आरोपी सुशांत को जबरदस्त ड्रग्स दे रही थी या फिर आरोपी खुद ड्रग्स ले रही थी.

पांचवा, वीड के बारे में बात करते हैं. आरोपी की ड्रग्स से जुड़ी चैट सामने आने के बाद उसका कहना है कि सुशांत ड्रग्स लेता था. जो पूरी तरह से बकवास है, अगर हम एक पल के लिए मानप भी लें तो वो किस तरह की पार्टनर थी जो अपने प्रियजनों को ड्रग्स देने का काम करती थी. इसके सिर्फ दो मलतब ही होते हैंय या तो आरोपी सुशांत को जबरदस्त ड्रग्स दे रही थी या फिर आरोपी खुद ड्रग्स ले रही थी.

सीबीआई (CBI) सूत्रों ने जानकारी दी है कि सीबीआई की टीम सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के बाद उनके शव की अटॉप्सी (Autopsy) करने वाले डॉक्टरों का बयान दर्ज करेगी. बताया गया है कि ऐसा इसलिए किया जायेगा क्योंकि सीबीआई की टीम अटॉप्सी रिपोर्ट में कई संदिग्ध बिंदुओं की जांच कर रही है.

  • Share this:
मुंबई. सीबीआई (CBI) के सूत्रों के मुताबिक सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के आवास से इकट्ठा किए गए काफी सबूतनष्ट हो चुके हैं. इसके साथ ही इकट्ठा किए गए सैंपल में से करीब 80 फीसदी का प्रयोग कर लिया गया है, जिससे अब ये समस्या सामने आ रही है की अगर उसी सैंपल  को सीबीआई अपने लैब में जांच करना चाहेंगी तो सैंपल की कमी सामने आ सकती है. सीबीआई सूत्रों ने जानकारी दी है कि सीबीआई की टीम सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उनके शव की अटॉप्सी (Autopsy) करने वाले डॉक्टरों का बयान दर्ज करेगी. बताया गया है कि ऐसा इसलिए किया जायेगा क्योंकि सीबीआई की टीम (CBI Team) अटॉप्सी रिपोर्ट में कई संदिग्ध बिंदुओं की जांच कर रही है.

वहीं केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI ) की टीम फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) कि संदिग्ध मौत मामले में पोस्टमार्टम (Postmortem Report) करने वाले और अटॉप्सी रिपोर्ट (Autopsy Report) बनाने वाले पांच डॉक्टरों का जल्द ही बयान दर्ज करने वाली है. सीबीआई के सूत्रों के मुताबिक उन पांचों डॉक्टरों का नाम हैं--

1. डॉ सचिन सोनावणे
2.डॉ. शिव कुमार
3.डॉ. संदीप इंगये
4. डॉ. प्रवीण खंडार
5.डॉ. गणेश पाटिल

सीबीआई के सूत्रों के मुताबिक इन डॉक्टरों का बयान दर्ज करके सीबीआई की टीम इस मामले से जुड़े कई महत्वपूर्ण मुद्दों को समझने का प्रयास करेगी, जिससे इस मामले का समाधान आसानी से किया जा सके. दूसरे शब्दों में कहें तो उन डॉक्टरों की सलाह को कलमबंद करने के बाद सीबीआई अपनी रिपोर्ट तैयार करेगी, जिससे की सीबीआई की टीम अपनी रिपोर्ट के आधार पर एक फाइनल रिपोर्ट तैयार कर सके.

अगर अटॉप्सी रिपोर्ट को गौर से देखा जाए और पढ़ा जाए तो कॉलम नंबर 17 और 18 इस केस में काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं, लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक बहुत सारी जानकारियां उस रिपोर्ट में नहीं हैं, लिहाजा सीबीआई की टीम इस वजह से भी उन पांचों डॉक्टरों से ये पूछ सकती है कि कॉलम नंबर 17 और 18 की विस्तृत डिटेल में और क्या-क्या है? उसी के आधार पर सीबीआई की टीम जांच के लिए आगे बढ़ने वाली है.

सीबीआई को तफ्तीश के दौरान कहां आने वाली है परेशानी?
सीबीआई की टीम फॉरेंसिक सबूतों को खंगालने में जुटी हुई है, फॉरेंसिक लैब से जुड़े मसले में मदद के लिए दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल के कार्यरत फॉरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता के नेतृत्व में उनकी टीम तैयार है और हर संभव मदद के लिए आश्वासन भी दे चुकी है. लेकिन एक मसला सीबीआई की टीम को भी परेशान कर सकता है, दरअसल मुंबई पुलिस के द्वारा सुशांत सिंह राजपूत के आवास से जो भी फॉरेंसिक जांच के लिए नमूने इकट्ठा किए गए थे, उनमें से 80 प्रतिशत नमूनों का प्रयोग किया जा चुका है.

यह भी पढ़ें: CWC मीटिंग: राहुल ने सोनिया गांधी के सहयोग के लिए व्यवस्था बनाने का सुझाव दिया

मुंबई पुलिस की टीम ने सुशांत सिंह का विसरा विस्तृत जांच के लिए अभी भी सुरक्षित रखा है, जिसे मुंबई स्थित कलीना इलाके में स्थित फोंरेंसिक साइंस लैब में रखा गया है, लेकिन उन नमूनों में से अगर 80 प्रतिशत सैंपल को अगर प्रयोग कर लिया गया है तो बाकी के बचे हुए 20 फीसदी सैंपल से सीबीआई की फॉरेंसिक टीम को काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि सीबीआई की टीम में कार्यरत एक जांच अधिकारी का कहना है की अगर सीबीआई की टीम विसरा को फिर से जांच करना चाहे तो बाकी के बचे हुए सैंपल से जांच करना बेहद मुश्किल भरा हो सकता है. बता दें कि किसी व्यक्ति की मौत के बाद मौत के कारणों को पता लगाने के लिए मृतक के शरीर के कुछ आंतरिक अंगों को सुरक्षित रखा जाता है, इसे विसरा कहते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज