लाइव टीवी

CBI vs CBI: कोर्ट में पूर्व जांच अधिकारी बस्सी ने कहा- अस्थाना के खिलाफ हैं कई सबूत

News18Hindi
Updated: February 28, 2020, 1:32 PM IST
CBI vs CBI: कोर्ट में पूर्व जांच अधिकारी बस्सी ने कहा- अस्थाना के खिलाफ हैं कई सबूत
सीबीआई के पूर्व निदेशक राकेश अस्थाना (फाइल)

CBI vs CBI: सुनवाई के दौरान वर्तमान और पूर्व जांच अधिकारियों के बीच विवाद छिड़ गया. दोनों की बहस के बीच सीबीआई जज संजीव अग्रवाल ने कहा कि आप दोनों एक ही एजेंसी से हैं. दोनों को वापस वहीं जाना है तो बेहतर है कि अपने आपसी विवाद जनता के सामने न लाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2020, 1:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सीबीआई बनाम सीबीआई (CBI vs CBI) कथित भ्रष्टाचार के मामले में शुक्रवार को दिल्ली की स्पेशल कोर्ट में सुनवाई हुई. इस दौरान चार्जशीट को लेकर वर्तमान और पूर्व जांच अधिकारियों के बीच विवाद छिड़ गया. वर्तमान जांच अधिकारी सतीश डागर ने पूर्व जांच अधिकारी ऐके बस्सी पर पक्षपात पूर्व जांच का आरोप लगाया. वहीं, ऐके बस्सी ने कहा कि सतीश डागर ने पूर्व स्पेशल सीबीआई निदेशक राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) को क्लीन चिट देने का मन बना लिया है. अस्थाना के खिलाफ कई सबूत हैं, लेकिन फिर भी न उनका फोन सीज किया है और न ही कोई अन्य इलैक्ट्रॉनिक डिवाइस ली गई.

बस्सी ने कहा कि रिश्वतखोरी मामले के वर्तमान जांच अधिकारी सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना और अन्य सरकारी कर्मचारियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं. बस्सी ने दावा किया कि मुख्य आरोपी मनोज प्रसाद ने अक्टूबर 2018 में पूछताछ के दौरान उन बड़े नामों का खुलासा किया था, लेकिन डागर ने फिर भी उन लोगों से पूछताछ नहीं की.



इसपर डागर ने जवाब देते हुए कहा कि मेरा इतिहास आपसे कही बेहतर है. निजी आरोपों पर न आएं. मैंने आपको 6 बार समन किया लेकिन अगर आप जांच में मदद करना चाहते थे तो क्यों नहीं आए.

दोनों की बहस के बीच सीबीआई जज संजीव अग्रवाल ने कहा कि आप दोनों एक ही एजेंसी से हैं. दोनों को वापस वहीं जाना है तो बेहतर है कि अपने आपसी विवाद जनता के सामने न लाएं.

राकेश अस्थाना पर अक्टूबर 2018 में एफआईआर दर्ज
सीबीआई ने राकेश अस्थाना पर अक्टूबर 2018 में एफआईआर दर्ज की थी. उन पर एक आरोपी को बचाने के लिए रिश्वत लेने का आरोप है. सीबीआई ने उनके खिलाफ हैदराबाद के व्यापारी सतीश बाबू साना की शिकायत पर मामला दर्ज किया था. साना ने कहा था कि उसने मीट कारोबारी मोइन कुरैशी से जुड़े मामले में कार्रवाई से बचने के लिए अस्थाना को दो करोड़ रु. की रिश्वत दी थी. सीबीआई के मुताबिक, डीएसपी देवेंद्र कुमार ने राकेश अस्थाना के लिए रिश्वत की रकम स्वीकार की थी.

ये भी पढ़ें: CBI ने पूर्व निदेशक को दी क्लीनचिट, कोर्ट ने कहा-आपने अपने अधिकारी का करियर खराब किया

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 28, 2020, 1:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर