12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द होने के बाद अपना समय कैसे बिताएंगे, IPL देखेंगे या फिर चैंपियंस लीग? पीएम मोदी ने छात्रों से पूछा

'परीक्षा पर चर्चा 2021' सत्र के दौरान छात्रों से वीडियो लिंक के जरिए बात करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (पीटीआई फाइल फोटो)

PM Narendra Modi CBSE Exam: कोरोना महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर केंद्र सरकार ने सीबीएसई की 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को सीबीएसई छात्रों व उनके अभिभावकों के साथ बातचीत की. उन्होंने उनसे पूछा कि 12वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द होने की बात सुनकर उन्हें कैसा महसूस हुआ. प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से यह सवाल भी किया कि वे परीक्षा रद्द होने के बाद अपना कैसे समय बिताएंगे. उन्होंने पूछा कि क्या वे अपना समय बिताने के लिए आईपीएल और चैंपियंस लीग देखेंगे या फिर ओलंपिक की प्रतीक्षा करेंगे.


    दरअसल शिक्षा मंत्रालय द्वारा गुरुवार को सीबीएसई छात्रों और उनके अभिभावकों के लिए एक सत्र का आयोजन किया गया था, जहां बारहवीं कक्षा की परीक्षा के संबंध में बातचीत होनी थी. इसी दौरान पीएम मोदी भी अचानक ही इस सेशन में शामिल हो गए और छात्रों व उनके अभिभावकों से बातचीत की. हालांकि, उनका इस कार्यक्रम में आना पहले से तय नहीं था.





    प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से कहा कि स्वास्थ्य ही धन है. इसके साथ ही उन्होंने छात्रों से सवाल किया कि वे शारीरिक रूप से फिट रहने के लिए क्या करते हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से कहा कि उन्हें परीक्षाओं को लेकर कभी भी तनाव में नहीं रहना चाहिए, परीक्षाएं रद्द करने का फैसला उनके हित में लिया गया है. प्रधानमंत्री मोदी ने 12वीं कक्षा के छात्रों और उनके अभिभावकों के साथ संवाद में कहा कि भारत का युवा सकारात्मक और व्यवहारिक है.


    गौरतलब है कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर केंद्र सरकार ने बीते मंगलवार को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया है. प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई एक महत्वपूर्ण बैठक के बाद इस फैसले की घोषणा की गई.


    साथ ही यह फैसला भी हुआ कि सीबीएसई 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के परिणामों को समयबद्ध तरीके से एक पूर्णत: स्‍पष्‍ट उद्देश्यपरक मानदंड के अनुसार संकलित करने के लिए आवश्‍यक कदम उठाएगा. बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि पिछले साल की तरह ही यदि कुछ विद्यार्थी परीक्षा में बैठने की इच्छा रखते हैं, तो स्थिति अनुकूल होने पर सीबीएसई द्वारा उन्हें ऐसा विकल्प प्रदान किया जाएगा.


    (इनपुट भाषा से भी)