बेटे की मौत से बेखबर, CCD संस्थापक वीजी सिद्धार्थ के पिता का भी निधन

News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 10:53 PM IST
बेटे की मौत से बेखबर, CCD संस्थापक वीजी सिद्धार्थ के पिता का भी निधन
हॉस्पिटल में अपने पिता के साथ सीसीडी के संस्थापक वीजी सिद्धार्थ (फाइल फोटो)

सीसीडी (Café Coffee Day) के संस्थापक वीजी सिद्धार्थ (V G Siddhartha) की मौत के कुछ दिनों के भीतर ही उनके 96 साल के पिता गंगैया हेगड़े (Gangaiah Hegde) ने भी रविवार को अपनी अंतिम सांस ली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2019, 10:53 PM IST
  • Share this:
सीसीडी (Café Coffee Day) के संस्थापक वीजी सिद्धार्थ (V G Siddhartha) की मौत के कुछ दिनों के भीतर ही उनके 96 साल के पिता गंगैया हेगड़े (Gangaiah Hegde) ने भी रविवार को अंतिम सांस ली. वो मैसूर (Mysuru) के गोपालागौड़ा हॉस्पिटल  में करीब एक महीने पहले से भर्ती थे और उनका उम्र से संबंधित बीमारियों के चलते इलाज चल रहा था.

अपनी मौत से कुछ दिन पहले ही वीजी सिद्धार्थ अपने बुजुर्ग पिता से मिलने गोपालगौड़ा हॉस्पिटल गए थे. इसके कुछ ही दिनों बाद जुलाई महीने की 29 तारीख को वे गायब हो गए थे और दो दिन बाद नेत्रावती नदी (Netravati River) में उनका शव पाया गया था.

पिता की बिगड़ती हालत देख सिद्धार्थ की आंखों में आ गए थे आंसू
ऐसा बताया जा रहा है कि अपनी मौत से कुछ दिन पहले, जुलाई के आखिरी सप्ताह में ही वीजी सिद्धार्थ (V G Siddhartha) अपने पिता से मिलने के लिए गए थे. सिद्धार्थ के चचेरे भाई के अनुसार, अपने पिता की लगातार बिगड़ती हालत को देखकर सिद्धार्थ की आंखों में आंसू आ गए थे.

हालांकि जब पूरा देश वीजी सिद्धार्थ की मौत का शोक मना रहा था तब उनके बीमार पिता को यह पता भी नहीं था कि उनका बेटा अब इस दुनिया में नहीं है. क्योंकि वीजी सिद्धार्थ की मौत 96 वर्षीय हेगड़े के कोमा में जाने के बाद हुई थी.

कुछ सालों पहले तक खुद ही लाते थे घरेलू सामान
वैसे गंगैया हेगड़े भी एक धनी कॉफी प्लांटर थे और चिकमंगलुरू (Chikmagaluru) जिले में वे जाने-माने व्यक्ति थे. अपने अनुशासन, परोपकार और बकवास से दूर रहने वाले स्वभाव के चलते उनकी प्रसिद्धि थी. उनके गांव के आस-पास के लोग याद करते हैं कि कुछ साल पहले तक वे खुद ही चिकमंगलुरू के स्थानीय साप्ताहिक बाजार में घरेलू सामान लेने के लिए खुद ही आते थे.
Loading...

हेगड़े के पार्थिव शरीर को अब मैसूर से चिकमंगलुरू से जाया जाएगा. वहां उनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार चेतनाहल्ली इस्टेट (Chetanahalli Estate) में किया जाएगा. यहीं पर उनके बेटे वीजी सिद्धार्थ का अंतिम संस्कार भी किया गया था.

यह भी पढ़ें: हलाल मीट सर्व करने से मैकडॉनल्ड्स पर भड़के हिंदू यूजर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 8:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...