CCD के फाउंडर वीजी सिद्धार्थ की तलाश में बंदरगाह के पास जहाज तैनात

पुलिस ने बताया था कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एस. एम. कृष्णा के दामाद सिद्धार्थ सोमवार रात से लापता हैं. उनकी तलाश में ICGS राजदूत को मंगलुरु के पुराने बंदरगाह पर गश्त के लिए भेजा गया है

भाषा
Updated: July 30, 2019, 4:45 PM IST
CCD के फाउंडर वीजी सिद्धार्थ की तलाश में बंदरगाह के पास जहाज तैनात
सीसीडी के फाउंडर वीजी सिद्धार्थ (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: July 30, 2019, 4:45 PM IST
भारतीय तटरक्षक बल ने मंगलवार को कहा कि सीसीडी के लापता संस्थापक वी.जी. सिद्धार्थ की तलाश के लिए मंगलुरु के पुराने बंदरगाह के पास एक जहाज तैनात किया गया है. तटरक्षक बल ने कहा कि उसने गोताखोरों की तीन टीमों को भी तलाश अभियान में लगाया है.

पुलिस ने बताया था कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एस. एम. कृष्णा के दामाद सिद्धार्थ सोमवार रात से लापता हैं. आईसीजीएस राजदूत को मंगलुरु के पुराने बंदरगाह पर गश्त के लिए भेजा गया है और बंदरगाह के मुहाने पर कड़ी नजर रखी जा रही है. वहीं आईसीजीएस सावित्रीबाई फुले को भी तैयार रखा गया है.

तटरक्षक बल ने एक बयान में कहा, ‘एयर कुशन व्हीकल (एच-198) नेत्रवती नदी में तलाश कर रहा है और सीजी की गोताखोरों टीमों की मदद कर रहा है. गोताखोरों की तीन टीमें, जिला आपदा राहत दल के साथ मिलकर लापता सिद्धार्थ का पता लगा रही हैं.’

नदी के पास टहलने उतरे थे सिद्धार्थ

पुलिस के अनुसार, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एस. एम. कृष्णा के दामाद सिद्धार्थ सक्लेश्पुर जा रहे थे. लेकिन अचानक उन्होंने अपने चालक से मंगलुरु चलने को कहा. दक्षिण कन्नड़ जिले के कोटेपुरा इलाके में नेत्रवती नदी के पुल पर पहुंच कर सिद्धार्थ कार से उतर गए और कहा कि वह जरा टहल रहे हैं.

चालक ने दी लापता होने की शिकायत
दक्षिण कन्नड़ जिले के उपायुक्त सेंथिल शशिकांत सेंथिल ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘ उन्होंने (सिद्धार्थ ने) चालक से उनके आने तक रुकने को कहा. जब वह दो घंटे तक वापस नहीं आए तो चालक ने पुलिस से सम्पर्क कर उनके लापता होने की शिकायत दर्ज कराई.’
Loading...

यह भी पढ़ें- जानिए कौन हैं CCD के लापता मालिक वीजी सिद्धार्थ?

कैफे कॉफी डे के मालिक लापता, निवेशकों के 813 करोड़ डूबे

गुम होने से पहले CCD के मालिक ने लिखा- कर्ज के दबाव में हूं
First published: July 30, 2019, 3:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...