Home /News /nation /

दावा, पुलिस और सीसीटीवी कैमरों की लोकेशन बता देगा यह ऐप, जानिए पुलिस क्या बोली

दावा, पुलिस और सीसीटीवी कैमरों की लोकेशन बता देगा यह ऐप, जानिए पुलिस क्या बोली

वीडियो में दिख रहा एक युवक दावा कर रहा है कि इस ऐप से कहीं भी लगे सीसीटीवी कैमरे और रास्ते में तैनात पुलिस की लोकेशन पहले से ही मिल जाएगी.

वीडियो में दिख रहा एक युवक दावा कर रहा है कि इस ऐप से कहीं भी लगे सीसीटीवी कैमरे और रास्ते में तैनात पुलिस की लोकेशन पहले से ही मिल जाएगी.

मोबाइल ऐप (Mobile App) में कैमरे और पुलिस (Police) की जानकारी आईकॉन के जरिए मिलती है. जांच करने पर पता चला कि इस तरह कई मोबाइल एप बाजार में हैं. गौरतलब रहे यमुना एक्सप्रेसवे (Yamuna Expressway) पर जीरो प्वाइंट नोएडा (Noida) से आगरा (Agra) तक 165 किमी के रास्ते में 10 स्थानों पर स्पीड रिकॉर्ड करने वाले 30 कैमरे पहले से लगे हुए हैं. अब 8 जगहों पर 16 हाई रेजुलेशन के कैमरे और लगा दिए गए हैं. यमुना एक्सप्रेसवे पर ओवर स्पीड का चालान 2000 रुपये का है.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल (Video Viral) हो रहा है. वीडियो यमुना एक्सप्रेसवे पर बना है. वीडियो में दिख रहा एक युवक दावा कर रहा है कि इस मोबाइल ऐप (Mobile App) से कहीं भी लगे सीसीटीवी (CCTV) कैमरे और रास्ते में तैनात पुलिस की लोकेशन पहले से ही मिल जाएगी. सोशल मीडिया (Social Media) पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो की खबर गौतम बुद्ध नगर पुलिस (Gautam Budh Nagar Police) को भी हो चुकी है. पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. लेकिन ऐसी आशंका जताई जा रही है कि इस ऐप का गलत फायदा उठाकर अपराधी किसी वारदात को भी अंजाम दे सकते हैं.

    एक्सप्रेसवे पर स्पीड चालान से बचने की ट्रिक बता रहा है युवक

    ऐप के बारे में दावा कर रहा युवक यमुना एक्सप्रेसवे पर खड़ा होकर वीडियो को शूट कर रहा है. युवक का दावा है कि अगर आप एक्सप्रेसवे पर सफर कर रहे हैं तो यह ऐप आपको पहले से स्पीड रिकॉर्ड करने वाले कैमरों की जानकारी दे देता है.

    इसके बाद कैमरे की रेंज में आने पर आप अपनी कार या बाइक की स्पीड कम करके चालान से बच सकते हैं. इसी तरह से किसी भी सड़क पर पुलिस पिकेट और थाना-चौकी कहां पर है इसकी जानकारी भी यह ऐप दे देता है. इसकी मदद से आप वाहन चेकिंग से बच सकते हैं.

    3 महीने की सेटिंग के बाद 10 सेकेंड में गिर जाएंगे नोएडा के सियान-एपेक्स टावर, जाने प्लान

    पुलिस बोली फायदा है तो खतरा भी है

    गौतम बुद्ध नगर पुलिस का कहना है कि ऐप की मदद से थाना, पुलिस चौकी और पिकेट की लोकेशन मिलना तो अच्छा है. इमरजैंसी में अगर किसी को मदद की जरूरत हो तो वो ऐप की मदद से थाना, पुलिस चौकी और पिकेट तक पहुंच सकता है. लेकिन ऐप की मदद से सीसीटीवी की लोकेशन लेना गलत है. यातायात नियमों को तोड़ने वाले इसका गलत फायदा उठा सकते हैं.

    इस ऐप से कुछ लोग सिर्फ यातयात नियमों को ही नहीं तोड़ेंगे बल्कि किसी वारदात को भी अंजाम दे सकते हैं. इस तरह के ऐप लोगों के मोबाइल से उनका डाटा भी चोरी कर सकते हैं. इसलिए लोग इस तरह की ऐप से अलर्ट रहें. जल्द ही जांच के दौरान तक ऐप को बंद करा कर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

    Tags: CCTV, Mobile Application, Viral video, Yamuna Expressway

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर