Home /News /nation /

CDS हेलिकॉप्टर दुर्घटना: क्या VVIP उड़ानों के प्रोटोकॉल की समीक्षा होगी? जानें क्या बोले एयर चीफ मार्शल

CDS हेलिकॉप्टर दुर्घटना: क्या VVIP उड़ानों के प्रोटोकॉल की समीक्षा होगी? जानें क्या बोले एयर चीफ मार्शल

कुन्नूर में आठ दिसंबर को हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण भारत के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष, उनकी पत्नी और 12 अन्य सैन्यकर्मियों की मौत हो गई थी.

कुन्नूर में आठ दिसंबर को हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण भारत के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष, उनकी पत्नी और 12 अन्य सैन्यकर्मियों की मौत हो गई थी.

CDS Bipin Rawat Chopper Crash: तमिलनाडु के कुन्नूर में आठ दिसंबर को हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण भारत के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष, उनकी पत्नी और 12 अन्य सैन्यकर्मियों की मौत हो गई थी. चौधरी ने कहा कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना को लेकर तीनों सेवाओं के अधिकारियों को शामिल करके बनाए गए जांच दल की ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ एक निष्पक्ष प्रक्रिया होगी और इस दल को घटना के प्रत्येक पहलू की जांच करने को कहा गया है.

अधिक पढ़ें ...

    हैदराबाद. एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी ने शनिवार को कहा कि एक शीर्ष जांच पैनल द्वारा कुन्नूर हेलीकॉप्टर दुर्घटना पर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के बाद वीवीआईपी उड़ानों को नियंत्रित करने वाले प्रोटोकॉल की समीक्षा की जाएगी. इस हादसे में भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत सहित 14 लोगों की मृत्यु हो गई थी.

    यहां के पास डुंडीगल में वायु सेना अकादमी में संयुक्त स्नातक परेड के इतर संवाददाताओं से बातचीत के दौरान चौधरी से जब पूछा गया कि क्या विशेष रूप से मी-17 हेलीकॉप्टर हादसे के बाद वीवीआईपी लोगों की उड़ानों से संबंधित प्रक्रियाओं की समीक्षा की जा रही है, तो उन्होंने कहा कि जांच के निष्कर्षो के आधार पर समीक्षा की जाएगी.

    ‘घटना के प्रत्येक पहलू की जांच हो रही है’
    इसके साथ ही वायु सेना प्रमुख वी. आर. चौधरी ने कहा कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना को लेकर तीनों सेवाओं के अधिकारियों को शामिल करके बनाए गए जांच दल की ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ एक निष्पक्ष प्रक्रिया होगी और इस दल को घटना के प्रत्येक पहलू की जांच करने को कहा गया है. उन्होंने कहा, “मैं कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी के परिणाम को लेकर पहले से कोई संभावना नहीं जताना चाहता, क्योंकि यह एक समग्र प्रक्रिया है. उन्हें (एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह को) अधिकार दिया गया है कि हरेक पहलू की जांच की जाए और हर पहलू पर गौर किया जाए कि क्या गलत हुआ होगा और उसी आधार पर उचित सिफारिशें की जाएं तथा निष्कर्ष निकाला जाए.”

    8 दिसंबर को तमिलनाडु के कुन्नूर में हुई थी दुर्घटना
    चौधरी से जांच से जुड़ी जानकारियों और हेलीकॉप्टर हादसे संबंधी परिस्थितियों को लेकर सवाल किया गया था, जिसके जवाब में उन्होंने यह टिप्पणी की. तमिलनाडु के कुन्नूर में आठ दिसंबर को हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण भारत के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष, उनकी पत्नी और 12 अन्य सैन्यकर्मियों की मौत हो गई थी. हेलीकॉप्टर हादसे के बाद केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में सूचित किया था कि एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह के नेतृत्व में तीनों सेवाओं के दल ने दुर्घटना की जांच आरंभ कर दी है.

    स्वर्ण मंदिर में गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की कोशिश, लोगों ने युवक को पीट-पीटकर मार डाला

    ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ पूरी होने तक इंतजार करना होगा
    उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि मैं इस बारे में जल्दबाजी में कोई घोषणा नहीं करूं कि इसका (हादसे का) कारण क्या हो सकता है या हम इसके लिए क्या उपचारात्मक कदम उठाने जा रहा है, इसलिए हमें कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी पूरी होने तक कुछ और सप्ताह के लिए इंतजार करना होगा. मैं आपको यह भरोसा दिलाना चाहता हूं कि यह अत्यंत निष्पक्ष प्रक्रिया है.”

    ‘पूर्वी लद्दाख में किसी भी चुनौती से निपटने के लिए तैयार’
    चौधरी ने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी गतिरोध पर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारतीय वायुसेना अपनी तैनाती जारी रखे हुए है क्योंकि चीन के साथ गतिरोध अभी भी बना हुआ है और जरूरत पड़ने पर बल सैनिकों की उपस्थिति बढ़ाने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा, “जैसा आपने कहा, गतिरोध जारी है. पूर्वी लद्दाख के कुछ इलाकों से सैनिक (दोनों तरफ के) पीछे हटे हैं. लेकिन, सैनिक पूरी तरह से अभी तक नहीं हटे हैं … मैं विवरण में नहीं जाना चाहूंगा, लेकिन यह कहना पर्याप्त है कि हम तैनात हैं, हम उस क्षेत्र में हमारे सामने आ सकने वाली किसी भी चुनौती से त्वरित रूप से निपटने के लिए तैयार हैं.” वह पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में चीन के साथ गतिरोध पर एक सवाल का जवाब दे रहे थे.

    ओमिक्रॉन से आई तीसरी लहर तो प्रतिदिन 14 लाख कोविड के मामले आएंगे सामने, एक्सपर्ट की चेतावनी

    ‘वायुसेना पड़ोसी देश से आने वाले खतरों से अवगत’
    यह पूछे जाने पर कि क्या बलों की और तैनाती की जाएगी, उन्होंने कहा, “नि:संदेह, यदि आवश्यक हुआ तो वहाँ यह होगा. जरूरत पड़ने पर हम तैनाती बढ़ाएंगे.” चौधरी ने एक अन्य प्रश्न के जवाब में कहा कि भारतीय वायुसेना पड़ोसी देश से विभिन्न स्वरूपों में आने वाले खतरों से अवगत है. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को कहा था कि गतिरोध चीन द्वारा ‘समझौतों’ का पालन नहीं करने और बीजिंग के एक ऐसे पक्ष के रूप में काम करने का परिणाम है जिसने ‘एक अनुबंध का उल्लंघन किया है.’

    इससे पहले, चौधरी ने यहां पासिंग आउट परेड को संबोधित करते हुए कहा कि युद्ध की प्रकृति में मूलभूत परिवर्तन हो रहे हैं और भारत के सुरक्षा परिदृश्य में बहुआयामी खतरे एवं चुनौतियां शामिल हैं, जिनके लिए कई क्षेत्रों में क्षमता निर्माण की आवश्यकता होगी. चौधरी ने कहा कि वायु सेना राफेल विमान, अपाचे हेलीकॉप्टर और व्यापक अत्याधुनिक प्रणालियों को शामिल करके एक अत्यधिक शक्तिशाली वायु सेना में बदल रही है.

    Tags: Cds bipin rawat, General Bipin Rawat, Indian air force, Tamil nadu

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर