Home /News /nation /

CDS जनरल बिपिन रावत का सैन्य सफर रहा है गौरवशाली, मिले ढेरों अवॉर्ड, सम्मान और उपलब्धियां

CDS जनरल बिपिन रावत का सैन्य सफर रहा है गौरवशाली, मिले ढेरों अवॉर्ड, सम्मान और उपलब्धियां

बुधवार को तमिलनाडु में एक हेलिकॉप्टर हादसे में CDS बिपिन सिंह रावत का निधन हो गया.

बुधवार को तमिलनाडु में एक हेलिकॉप्टर हादसे में CDS बिपिन सिंह रावत का निधन हो गया.

CDS Bipin Rawat military career and achievements: देश के पहले सीडीएस और पूर्व सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत अब इस दुनिया में नहीं रहे. लेकिन देश और सेना की सेवा के लिए उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा. सन 1978 से लेकर 2021 तक इस लंबे सैन्य सफर में उन्होंने कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी अमूल्य सेवाएं दीं. इस दौरान उन्होंने कई उपलब्धियां हासिल की, जिसके लिए उन्हें कई अवॉर्ड और सम्मानों से नवाजा गया.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: तमिलनाडु में हुए दुखद हादसे से पूरा देश मायूस है. हेलीकॉप्टर क्रैश (Tamilnadu Helicopter Crash) में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) समेत सेना के कई सीनियर अफसर शहीद हो गए. इस घटना में सीडीएस बिपिन रावत की पत्नी मधुलिका रावत भी नहीं रहीं. यह हादसा कोयंबटूर और सुलुर के बीच कूनुर के जंगलों में हुआ, जहां सीडीएस बिपिन रावत समेत MI-17V5 हेलीकॉप्टर में सवार सेना के 14 लोग दुर्घटना के शिकार हो गए. इस घटना में 13 लोगों की मौत हो गई है जबकि सेना के एक अधिकारी का इलाज जारी है.

    सीडीएस बिपिन रावत की शहादत सेना और देश के लिए एक बड़ी क्षति है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने इस घटना पर शोक जताते हुए श्रद्धांजलि दी है. सेना प्रमुख के पद से रिटायर होने के बाद अगले दिन ही 20 दिसंबर 2019 में उन्हें देश का पहला चीफ डिफेंस ऑफ स्टाफ नियुक्त किया गया. शहीद जनरल बिपिन रावत ने भारतीय सेना में कई महत्वपूर्ण पदों पर काम करते हुए अपनी अमूल्य सेवाएं दीं. इस दौरान उन्हें अपनी उपलब्धियों के लिए कई अवॉर्ड और सम्मानों से नवाजा गया.

    पीढ़ियों से सेना में सेवा
    शहीद बिपिन रावत का जन्म उत्तराखंड के उस परिवार में हुआ जिसने कई पीढ़ियों से भारतीय सेना में अपनी सेवाएं दी है. उनके पिता लक्ष्मण रावत आर्मी में लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर थे. वहीं उनकी मां किशन सिंह परमार की बेटी थीं जो कि उत्तरकाशी से विधानसभा के सदस्य थे. बिपिन रावत ने अपनी स्कूली शिक्षा देहरादून और शिमला से पूरी की. इसके बाद वे नेशनल डिफेंस एकेडमी और इंडियन मिलिट्री एकेडमी पहुंचे, जहां उन्हें ‘स्वॉर्ड ऑफ ऑनर’ मिला.

    सेना में जनरल बिपिन रावत का गौरवशाली सफर: उपलब्धियां और सम्मान

    16 दिसंबर 1978 को बिपिन रावत ने 11वीं गोरखा राइफल्स की 5वीं बटालियन को ज्वाइन किया, इसी यूनिट में उनके पिता भी थे. जबरदस्त युद्ध कौशल, उच्च क्षेत्रों में युद्ध लड़ने की कला और आतंकवाद से निपटने के लिए उनकी रणनीति व समझबूझ के चलते सेना में उन्हें तेजी से तरक्की मिलती गई.
    मेजर जनरल बनने के बाद बिपिन रावत को 19वीं इंफेंट्री डिविजन (उरी) का कमांडिंग ऑफिसर बनाया गया. लेफ्टिनेंट जनरल के तौर पर उन्होंने दिमापुर स्थित थर्ड कॉर्प्स मुख्यालाय का नेतृत्व किया.
    जनरल रावत ने डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में MONUSCO मल्टीनेशनल ब्रिगेड के 8वें चैप्टर की कमान संभाली. जहां उन्होंने दो बार फोर्स कमांडर की जिम्मेदारी मिली.
    सैन्य करियर में बिपिन रावत 1 जनवरी 2016 को साउदर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ बने. इसके कुछ महीनों बाद ही 1 सितंबर 2016 को उन्हें भारतीय सेना का वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ बनाया गया.
    17 दिसंबर 2016 को उनके करियर का सबसे बेहतरीन दिन आया जब उन्हें सरकार ने भारतीय सेना का सेना प्रमुख बनाया. जनरल बिपिन रावत देश के 27वें सेना प्रमुख बने और 31 दिसंबर 2019 को इस पद से रिटायर हुए.
    वे गोरखा रेजिमेंट से आने वाले तीसरे ऐसे अफसर थे जिन्हें सेना प्रमुख बनाया गया. इससे पहले फील्ड मार्शल सैम मॉनेकशा और दलबीर सिंह सुहाग इस रेजिमेंट से चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ बने थे.
    जनरल बिपिन रावत को यूनाइटेड स्टेट्स आर्मी कमांड और जनरल स्टाफ कॉलेज इंटरनेशनल हॉल ऑफ फ़ेम में शामिल किया गया था.
    जनरल बिपिन रावत को सेना में अपनी सेवाओं के लिए कई बहादुरी पुरस्कारों से नवाजा गया. इनमें परम विशिष्ठ सेवा मेडल, उत्तम युद्ध सेवा मेडल, अति विशिष्ठ सेवा मेडल, युद्ध सेवा मेडल, सेना मेडल, सामान्य सेवा मेडल, स्पेशल सर्विस मेडल, ऑपरेशन पराक्रम मेडल, सैन्य सेवा मेडल समेत कई सम्मान प्राप्त हुए.

    Tags: Bipin Rawat Helicopter Crash, Cds bipin rawat

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर