Home /News /nation /

एक माचिस की डिबिया की वजह हुआ था NDA में सेलेक्शन, जानें बिपिन रावत के जीवन ये अनसुनी कहानी

एक माचिस की डिबिया की वजह हुआ था NDA में सेलेक्शन, जानें बिपिन रावत के जीवन ये अनसुनी कहानी

सीडीएस बिपिन रावत का निधन हो गया (फाइल फोटो)

सीडीएस बिपिन रावत का निधन हो गया (फाइल फोटो)

CDS General Bipin Rawat: बिपिन रावत ने तब कहा था, "यूपीएससी की एनडीए परीक्षा पास करने के बाद मैं सर्विस सेलेक्शन बोर्ड के पास जाना था. इस सेलेक्शन के लिए मैं इलाहाबाद (अब प्रयागराज) गया. वहां पर 4 से 5 दिनों की सख्त ट्रेनिंग और टेस्टिंग के बाद हमारा फाइनल इंटरव्यू हुआ."

अधिक पढ़ें ...

    चेन्नई. तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए हेलिकॉप्टर हादसे में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी समेत 13 लोगों की मौत हो गई है. जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी का शव गुरुवार को दिल्ली लाया जाएगा और शुक्रवार को राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. मूल रूप से उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले बिपिन रावत ने बचपन में ही भारतीय सेना में शामिल होने का सपना देखा था और उसे पूरा भी किया. लंबे वक्त तक देश की सेवा करने के वाले बिपिन रावत ने कुछ साल पहले इंडियन आर्मी में ऑफिसर बनने के लिए तैयारी कर रहे छात्रों के साथ व्यक्तिगत अनुभव शेयर करते हुए उन दिनों की कहानी बयां की थी जब वह एनडीए की तैयारी कर रहे थे.

    बिपिन रावत ने तब कहा था, “यूपीएससी की एनडीए परीक्षा पास करने के बाद मैं सर्विस सेलेक्शन बोर्ड के पास जाना था. इस सेलेक्शन के लिए मैं इलाहाबाद (अब प्रयागराज) गया. वहां पर 4 से 5 दिनों की सख्त ट्रेनिंग और टेस्टिंग के बाद हमारा फाइनल इंटरव्यू हुआ. सभी कैंडिडेट एक कमरे के बाहर लाइन में खड़े थे. सबको एक-एक करके कमरे में बुलाया गया और सवाल पूछे गए. यही वो चंद मिनट थे जो हमें एनडीए में एंट्री दिला सकते थे या फिर बाहर कर सकते थे.”

    अपनी बात आगे रखते हुए जनरल बिपिन रावत ने आगे कहा कि, आखिरकार मेरी बारी आई. मैं अंदर गया. सामने एक ब्रिगेडियर रैंक के ऑफिसर थे, जो मेरा इंटरव्यू लेने वाले थे. एक युवा छात्र के रूप में, जैसा कि आप सभी लोग हैं, उस दफ्तर में चकित सा था. उन्होंने पहले तो मुझसे चार-पांच सामान्य सवाल पूछे. मैं सहज हो गया. इसके बाद उन्होंने मेरी हॉबी पूछी. मैं उन्हें बताया कि मुझे ट्रैकिंग का बहुत शौक है.

    ये भी पढ़ेंः- CDS Bipin Rawat Death: सीडीएस बिपिन रावत की मौत पर क्या बोले पाकिस्तानी सेना के जनरल?

    मेरा जवाब सुनने के बाद अधिकारियों ने मुझसे पूछा कि अगर आपको ट्रैकिंग पर जाना हो, जो कि चार से पांच दिन चलने वाली हो, तो आप एक ऐसी कौन सी चीज है जिसे अपने पास रखना चाहेंगे. अधिकारियों का जवाब देते हुए बिपिन रावत ने कहा था कि वह इस स्थिति में एक माचिस का डिब्बा साथ रखेंगे. उन्होंने कहा था कि इंटरव्यू में उनसे सवाल पूछा गया कि आखिर इस तरह की ट्रैकिंग में उन्होंने सबसे जरूरी चीजों में माचिस को आखिरकार क्यों चुना?

    अपने जवाब को सही बताते हुए जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि अगर मेरे पास माचिस की डिब्बी है तो मैं ट्रैकिंग के दौरान इस एक चीज से कई काम कर सकता था और बहुत सारी गतिविधियों को अंजाम दे सकता था. उन्होंने आगे कहा था कि जब इंसान युवा अवस्था में होता है उसे आगे बढ़ने के लिए खुद को खोजना जरूरी है. इसलिए मैंने महसूस किया कि माचिस की डिब्बी मेरे ट्रैकिंग गियर का सबसे अहम चीज हो सकती है.

    Tags: Bipin Rawat, Bipin Rawat Helicopter Crash, Cds bipin rawat, Cds bipin rawat death, GEN Bipin Rawat Passes Away, General Bipin Rawat

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर