रैम्‍बो नहीं हैं आतंकी, हमें उनकी लीडरशिप को महत्‍व नहीं देना चाहिए: CDS जनरल रावत

रैम्‍बो नहीं हैं आतंकी, हमें उनकी लीडरशिप को महत्‍व नहीं देना चाहिए: CDS जनरल रावत
सीडीएस जनरल बिपिन रावत

CDS जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat) ने इस बात पर जोर दिया कि सशस्‍त्र बलों की पहली प्राथमिकता शीर्ष आतंकियों (आतंकी नेतृत्‍व) को मार गिराने की है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) ने गुरुवार को आतंकी रियाज नाइकू (Riyaz Naikoo) का खात्‍मा करने पर जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस (Jammu Kashmir Police) और सुरक्षा बलों (Indian Army) की सराहना की. उन्‍होंने इस दौरान सुरक्षा बलों को प्रोत्‍साहित करते हुए कहा, 'आतंकी कोई रैम्‍बो (Rambo) नहीं हैं, वे कुछ भी नहीं हैं. हमें आतंकवादियों के नेतृत्‍व (लीडरशिप) को महत्‍व नहीं देना चाहिए.'

जनरल बिपिन रावत ने इस बात पर जोर दिया कि सशस्‍त्र बलों की पहली प्राथमिकता शीर्ष आतंकियों (आतंकी नेतृत्‍व) को मार गिराने की है. इससे आतंकी संगठनों में आतंकवादियों की भर्ती प्रक्रिया धीमी होगी.

सीडीएस रावत ने रियाज नाइकू के एनकाउंटर को लेकर कहा कि आतंकी की बड़ी छवि बनाना, उनको रैम्‍बो जैसी छवि के रूप में प्रचारित करना होता है. हमें इससे दूर रहना है और उनकी नकारात्‍मक बातों को अधिक सामने लाना है. इससे आतंकी नेताओं की रैम्‍बो जैसी छवि नहीं बन पाएगी. उन्‍होंने कहा, 'वे सिर्फ आतंकी हैं और सिर्फ अशांति फैलाना चाहते हैं. वे नहीं चाहते कि कश्‍मीर में हालात सामान्‍य हों और वहां शांति लौटे. हमें उनके नेतृत्‍व को कोई महत्‍व नहीं देना चाहिए.'



कोरोना वॉरियर्स के सम्‍मान में सशस्‍त्र बलों द्वारा की गई पुष्‍प वर्षा पर आलोचना करने वाले लोगों पर भी सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने प्रतिक्रिया दी. उन्‍होंने कहा कि कुछ लोग ऐसे हैं, जो अशिक्षित हैं, लेकिन उनमें बुद्धिमत्ता और ज्ञान है. लेकिन ऐसे भी लोग हैं जो शिक्षित हैं, लेकिन ऐसा व्यवहार करते हैं मानो उनमें विवेक और बुद्धि की कमी है.
बता दें कि जम्‍मू कश्मीर के पुलवामा जिले में बुधवार को सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन का शीर्ष कमांडर रियाज नाइकू मारा गया था. नाइकू पिछले आठ वर्षों से फरार था. उस पर 12 लाख रुपये का इनाम भी था.

अधिकारियों ने कहा कि प्रतिबंधित संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के ऑपरेशनल कमांडर रियाज नाइकू को पुलवामा के बेगपोरा गांव में घेर लिया गया था. यह उसका पैतृक गांव था. जुलाई 2016 में आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद नाइकू आतंकी संगठन का कमांडर बन गया था.

यह भी पढ़ें:- देश में जून-जुलाई में चरम पर होगा कोविड 19, एम्‍स डायरेक्‍टर ने जताई आशंका
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading