स्वदेशी हथियारों को दी जाएगी तरजीह, बन रही रक्षा उपकरण आयात बैन की नई लिस्ट

सीडीएस बिपिन रावत ने ये नई लिस्ट बनाई है. (फाइल फोटो)

सीडीएस बिपिन रावत ने ये नई लिस्ट बनाई है. (फाइल फोटो)

यह फैसला 'मेक इन इंडिया' (Make In India) को और मजबूती देने के लिए किया गया है. यह लिस्ट इस महीने के आखिर तक आ सकती है. इसे सीडीएस बिपिन रावत की अगुआई में डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स द्वारा तैयार किया जा रहा है. इस लिस्ट को 'Positive List Of Indigenisation' कहा जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 4:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत अब 'मेक इन इंडिया' के तहत स्वदेशी हथियारों (Indigenious Weapons) को ज्यादा तरजीह दे रहा है. यह बात बीते वर्षों में कई सरकारी फैसलों में सामने आई है. अब खबर आई है कि एक नई लिस्ट तैयार की जा रही है जिसमें 101 रक्षा उपकरणों के आयात पर बैन लगाया जा सकता है. यह फैसला 'मेक इन इंडिया' को और मजबूती देने के लिए किया गया है. यह लिस्ट इस महीने के आखिर तक आ सकती है. इसे सीडीएस बिपिन रावत की अगुआई में डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स द्वारा तैयार किया जा रहा है. इस लिस्ट को 'Positive List Of Indigenisation' कहा जा रहा है.

इस लिस्ट में शामिल किए गए उपकरणों को लेकर डिफेंस मैन्यूफैक्चरिंग के क्षेत्र में काम कर रहे स्वदेशी प्राइवेट प्लेयर्स से भी बात की जा रही है. कहा जा रहा है कि अब फोकस इस बात पर होगा कि हथियारों का निर्माण देश में ही हो और आयात को एक तय समयसीमा के साथ कम किया जाए. समाचार एजेंसी एएनआई ने एक सीनियर अधिकारी के हवाले से लिखा है-देश के भीतर ही ज्यादातर हथियार बनेंगे तो हम किसी भी विषम परिस्थिति के लिए बेहतर रूप से तैयार हो सकेंगे.

बीते महीने सरकार ने साइन किया 'सबसे बड़ा' रक्षा सौदा

गौरतलब है कि फरवरी महीने की शुरुआत में केंद्र सरकार ने 83 तेजस लाइट कॉम्बैट विमानों की डील पर हस्ताक्षर किए थे. यह औपचारिक प्रक्रिया बेंगलुरु में आयोजित एयरो इंडिया 2021 कार्यक्रम के दौरान की गई. इन विमानों का निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड करेगा. खास बात यह है कि इसे स्वदेशी मिलिट्री एविएशन सेक्टर की सबसे बड़ी डील माना जा रहा है. रक्षा मंत्रालय के महासचिव (अधिग्रहण) वीएल कांताराव की तरफ से एचएएल के एमडी आर माधवन को कॉन्ट्रैक्ट दिया गया.
HAL को 48 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत का कॉन्ट्रैक्ट

तब रक्षा मंत्री सिंह ने कहा था, 'मैं बहुत खुश हूं कि HAL को 48 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत वाले 83 नए स्वदेशी लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (LCA) बनाने का ऑर्डर मिला.' उन्होंने कहा, 'यह शायद अब तक का सबसे बड़ा मेक इन इंडिया डिफेंस कॉन्ट्रैक्ट है.' जेट के मार्क A1 वर्जन में 43 सुधार होंगे. जिसमें कई बड़े बदलाव भी शामिल होंगे. इन सुधारों के बाद विमानों का रखरखाव आसान होगा और इसके अलावा कई चीजें बेहतर होंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज