भारतीय सेना ने बढ़ाई रिटायरमेंट की उम्र, समय से पहले  रिटायर हुए तो नहीं मिलेगी पूरी पेंशन

सर्विस के सालों के हिसाब से पेंशन तय की जाएगी.
सर्विस के सालों के हिसाब से पेंशन तय की जाएगी.

आर्मी (Indian Army), नेवी (Indian Navy) और एयरफोर्स (Indian Airforce) के एचआर से जुड़े मामलों को देखने और को-ऑर्डिनेशन के लिए बनाए गए डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स (DMA) की तरफ से 29 अक्टूबर को एक लेटर जारी हुआ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 9:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार भारत की तीनों सेनाओं के अफसरों से जुड़े कई अहम प्रस्तावों पर विचार कर रही है. न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पहला सेना में कार्यरत अधिकारी जो वक्त से पहले रिटायरमेंट लेते हैं उनकी पेंशन कम कर दी जाए. दूसरा यह कि रिटायरमेंट की उम्र भी बढ़ा दी जाए. आर्मी (Indian Army), नेवी (Indian Navy) और एयरफोर्स (Indian Airforce) के एचआर से जुड़े मामलों को देखने और को-ऑर्डिनेशन के लिए बनाए गए डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स (DMA) की तरफ से 29 अक्टूबर को एक लेटर जारी हुआ था.

इसमें कहा गया कि पेंशन और रिटायरमेंट से जुड़े नियमों में बदलाव के प्रस्ताव का ड्राफ्ट 10 नवंबर तक तैयार कर DMA के सेक्रेटरी जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) को रिव्यू के लिए भेज दिया जाए.

बढ़ाई जाएगी रिटायरमेंट की उम्र
रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि आर्मी में कर्नल, ब्रिगेडियर और मेजर जनरल रैंक के अधिकारियों के रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाकर 57 साल, 58 साल और 59 साल कर दी जाए. आर्मी के अलावा भारतीय नौसेना और एयरफोर्स में भी यही नियम लागू होगा. जानकारी के लिए बता दें कि अभी कर्नल, ब्रिगेडियर और मेजर जनरल रैंक के अफसरों के रिटायरमेंट की उम्र 54 साल, 56 साल और 58 साल है.




क्या होगा पेंशन का?
वहीं, पेंशन के मामले में कहा गया है कि अधिकारियों ने सेना में कितने सालों की सर्विस दी है इसके आधार पर पेंशन तय की जाएगी. 20-25 साल सर्विस करने वाले अधिकारियों को 50 प्रतिशत पेंशन, 26-30 साल सर्विस करने वालों को 60%, 30-35 साल वालों को 75% पेंशन दी जाएगी. वहीं, पूरी पेंशन सिर्फ उन्हें दी जाए जो 35 साल से ज्यादा भारतीय सेना की सेवा में रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज