आतंक पर पाकिस्तान का रवैया नहीं बदला, बल्कि तरीका बदला हैः चिनार कोर कमांडर

लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने कहा कि आतंकियों को समर्थन देने में पाकिस्तान का मकसद बदला नहीं है. ANI

लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने कहा कि आतंकियों को समर्थन देने में पाकिस्तान का मकसद बदला नहीं है. ANI

Chinar Corps Commander: चिनार कोर कमांडर ने कहा कि आतंकियों को कवर देने के लिए पहले पाकिस्तानी सेना सीजफायर का उल्लंघन करती थी, लेकिन हमने देखा है कि कुछ समय से इन मामलों में कमी आई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2021, 8:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा रेखा पर जारी सीजफायर (Ceasefire) पर चिनार कोर के कमांडर (Chinar Corps Commander) लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे (Lt Gen DP Pandey) का बड़ा बयान सामने आया है. डीपी पांडे ने गुरुवार को कहा कि दो महीने पहले सीजफायर की घोषणा हुई थी, भारत और पाकिस्तान दोनों देश समझौते की शर्तों का पालन कर रहे हैं. लेकिन, हमें बहुत जल्दी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचना चाहिए. अगले एक या दो महीनों में हम सीजफायर के प्रभाव का कश्मीर में असर देख पाएंगे. लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने कहा कि आतंकियों को समर्थन देने में पाकिस्तान का मकसद बदला नहीं है, लेकिन आतंक को अंजाम देने का उनका तरीका बदल गया है. पिछले कुछ सालों से पाकिस्तानी आतंकी कश्मीर में आतंकी हमलों का नेतृत्व नहीं करते हैं, बल्कि ऐसा करने के लिए स्थानीय आतंकियों को भड़काते हैं.

चिनार कॉर्प्स कमांडर ने कहा कि घाटी में आतंकियों घटना में कमी आई है, पिछले साल के मुकाबले देखा जाए तो आभासी तौर पर इन घटनाओं में 50 फीसदी की कमी है, आतंकियों को कवर देने के लिए पहले पाकिस्तानी सेना सीजफायर का उल्लंघन करती थी, लेकिन हमने देखा है कि कुछ समय से इन मामलों में कमी आई है और पाकिस्तानी सेना अपनी हरकतों पर लगाए हुए है. बता दें कि भारत और पाकिस्तान, दोनों देशों की सेनाओं ने 25 फरवरी को घोषणा की थी कि वे जम्मू-कश्मीर और अन्य सेक्टरों में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर संघर्ष विराम को लेकर हुए सभी समझौतों की कड़ाई से पालन करने पर राजी हुए हैं.



घोषणा के कुछ सप्ताह बाद ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने भारत की ओर शांति का हाथ बढ़ाते हुए कहा था कि अब वक्त आ गया है कि दोनों पड़ोसी देश ‘‘अपने अतीत को पीछे छोड़ कर आगे बढ़ें.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज