केंद्र ने शुभेंदु अधिकारी के पिता और भाई की बढ़ाई सुरक्षा, मिली Y+ सिक्योरिटी

केंद्र ने शुभेंदु अधिकारी के पिता और भाई की बढ़ाई सुरक्षा. (फाइल फोटो)

केंद्र ने शुभेंदु अधिकारी के पिता और भाई की बढ़ाई सुरक्षा. (फाइल फोटो)

आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) के पिता शिशिर कुमार अधिकारी और भाई दिब्येंदु अधिकारी को केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों (Central Security Agency) द्वारा तैयार की खतरे के आकलन की रिपोर्ट के आधार पर मंत्रालय द्वारा सुरक्षा मुहैया कराई गई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल (West Bengal) भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) के सांसद पिता और भाई को केंद्रीय गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने ‘वाई प्लस’ श्रेणी (Y Plus Security) की सुरक्षा दी है.आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को बताया कि शुभेंदु अधिकारी के पिता शिशिर कुमार अधिकारी और भाई दिब्येंदु अधिकारी को केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों (Central Security Agency) द्वारा तैयार की खतरे के आकलन की रिपोर्ट के आधार पर मंत्रालय द्वारा सुरक्षा मुहैया कराई गई है.

शिशिर कुमार अधिकारी कांठी लोकसभा सीट से सांसद हैं जबकि दिब्येंदु अधिकारी राज्य में तमलुक से तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद हैं. सूत्रों ने बताया कि रिपोर्ट में दोनों नेताओं पर शारीरिक सुरक्षा के खतरे के मद्देनजर उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने की सिफारिश की गई है. सूत्रों ने बताया कि उन्हें पश्चिम बंगाल राज्य में ‘वाई प्लस’ केंद्रीय सुरक्षा मुहैया करायी गई है और केंद्रीय रिजर्व पुलिस (सीआरपीएफ) को इसकी जिम्मेदारी सौंपी है.


इसे भी पढ़ें :- भवानीपुर से चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी! विधायक शोभन देव चटर्जी ने दिया इस्‍तीफा
उन्होंने बताया कि राज्य में जब भी उनमें से कोई कहीं जाएगा तो करीब चार से पांच सशस्त्र कमांडो उनके साथ होंगे. सीआरपीएफ शुभेंदु अधिकारी को ‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा भी देती है. शुभेंदु अधिकारी पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं.

इसे भी पढ़ें :- शुवेंदु अधिकारी: कभी ममता बनर्जी की सरकार में थे नंबर 2, अब BJP का थाम चुके हैं हाथ

शुभेंदु अधिकारी ने टीएमसी से नाता तोड़ लिया था और भाजपा में शामिल हो गए थे. उन्होंने नंदीग्राम सीट से मुख्यमंत्री और टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी के खिलाफ 2021 का विधानसभा चुनाव लड़ा और जीत हासिल की.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज