Home /News /nation /

पहली बार हो रही भारत-ऑस्ट्रेलिया 2+2 मंत्रीस्तरीय वार्ता के लिए केंद्र तैयार

पहली बार हो रही भारत-ऑस्ट्रेलिया 2+2 मंत्रीस्तरीय वार्ता के लिए केंद्र तैयार

2+2 मंत्रीस्तरीय वार्ता में विदेश मंत्री एस जयशंकर, और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपने ऑस्‍ट्रेलियाई समकक्षों से चर्चा करेंगे.

2+2 मंत्रीस्तरीय वार्ता में विदेश मंत्री एस जयशंकर, और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अपने ऑस्‍ट्रेलियाई समकक्षों से चर्चा करेंगे.

11 सितंबर को 2+2 मंत्रीस्तरीय वार्ता के उद्घाटन के मौके पर भारत (India) और ऑस्ट्रेलिया (Australia) को उम्मीद है कि सुरक्षा संबंधों को मजबूत करने और भारत-प्रशांत क्षेत्र (Indo-Pacific) में रणनीतिक सहयोग के बढ़ोतरी पर उनका ध्यान केंद्रित होगा. इस अवसर पर विदेश मंत्री एस जयशंकर (EAM S Jaishankar) और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh), ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मेरिज पायन और रक्षा मंत्री पीटर डुट्टन के बीच वार्ता होगी.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्‍ली. 11 सितंबर को 2+2 मंत्रीस्तरीय वार्ता के उद्घाटन के मौके पर भारत (India) और ऑस्ट्रेलिया (Australia) को उम्मीद है कि सुरक्षा संबंधों को मजबूत करने और भारत-प्रशांत क्षेत्र (Indo-Pacific) में रणनीतिक सहयोग के बढ़ोतरी पर उनका ध्यान केंद्रित होगा. इस अवसर पर विदेश मंत्री एस जयशंकर (EAM S Jaishankar) और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh), ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मेरिज पायन और रक्षा मंत्री पीटर डुट्टन के बीच वार्ता होगी. दो वरिष्ठ ऑस्ट्रेलियाई मंत्री अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे की पृष्ठभूमि के लिए भी यात्रा कर रहे हैं. जयशंकर और राजनाथ सिंह की अपने समकक्षों के साथ इस मुद्दे पर अलग-अलग बैठकों में बातचीत होना संभव है.

    2+2 वार्ता का केंद्र, चीन की भारत-प्रशांत क्षेत्र में सैन्य मुखरता को लेकर समग्र सहयोग को बढा़ना देने पर होने की उम्मीद है. ऑस्ट्रेलिया और भारत दोनों ही चतुर्भुज गठबंधन या क्वाड का हिस्सा हैं जिसने एक मुक्त, सबके लिए खुला और संयुक्त भारत-प्रशांत क्षेत्र को सुनिश्चित करने की दिशा में काम करने का संकल्प लिया है. अमेरिका और जापान इस क्वाड के अन्य दो सदस्य हैं. बताते चलें कि क्वाड भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान देशों का एक समूह है, जिसका उद्देश्य भारत-प्रशांत क्षेत्र में लोकतांत्रिक देशों के हितों की रक्षा करना और वैश्विक चुनौतियों का समाधान करना है.

    ये भी पढ़ें : राहुल गांधी का अजब बयान, ‘सरकार के फैसलों से मां लक्ष्मी, मां सरस्वती और दुर्गा माता की शक्ति घटी’

    ये भी पढ़ें : राज्यसभा में हंगामे की जांच के लिए समिति में शामिल होने से विपक्षी दलों ने किया इनकार

    इस 2+2 वार्ता के केंद्र में समुद्री सुरक्षा के क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग के विस्तार पर बातचीत की भी उम्मीद है. विदेश और सुरक्षा मंत्री के बीच 2+2 वार्ता का उद्देशय दोनों देशों के बीच रणनीतिक सहयोग को विस्तार देना था. भारत के पास अमेरिका, जापान सहित बहुत कम ऐसे देश हैं जिनके साथ इस तरह की बातचीत का ढांचा है. लेकिन पिछले कुछ सालों में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच रक्षा और सैन्य सहयोग में तेजी देखने को मिली है.

    पिछली जून में भारत और ऑस्ट्रेलिया ने अपने संबंधों को एक व्यापक रणनीतिक साझेदारी का रूप दिया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके समकक्ष स्कॉट मॉरिसन के बीच एक ऑनलाइन शिखर सम्मेलन के दौरान रसद के लिए सैन्य ठिकानों तक पहुंच के ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर भी हुए. ऑस्ट्रेलिया नौसेना हाल ही में उस मालाबार अभ्यास का हिस्सा भी रही जिसमें भारत, अमेरिका और जापान की नौसेनाएं शामिल थीं.

    Tags: Australia, Defense Minister Rajnath Singh, EAM S Jaishankar, India, Indo-Pacific

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर