Home /News /nation /

ऑक्सीजन के लिए बने कार्यबल की सिफारिशों पर क्‍या किया, केंद्र बताए : सुप्रीम कोर्ट

ऑक्सीजन के लिए बने कार्यबल की सिफारिशों पर क्‍या किया, केंद्र बताए : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने सिफारिशों पर की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है.  (फ़ाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने सिफारिशों पर की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है. (फ़ाइल फोटो)

उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने कोविड-19 महामारी (COVID-19 pandemic) के दौरान राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को ऑक्सीजन आबंटित करने के मामले में बनाए गये राष्ट्रीय कार्य बल की सिफारिशों पर की गयी कार्रवाई की रिपोर्ट दो सप्ताह के भीतर पेश करने का निर्देश सोमवार को केंद्र को दिया.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने कोविड-19 महामारी (COVID-19 pandemic) के दौरान राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को ऑक्सीजन आबंटित (Oxygen Supply) करने के मामले में बनाए गये राष्ट्रीय कार्य बल की सिफारिशों पर की गयी कार्रवाई की रिपोर्ट दो सप्ताह के भीतर पेश करने का निर्देश सोमवार को केंद्र को दिया. पीठ ने इस मामले को सप्ताह के लिए स्थगित करते हुए इसे कोविड की तैयारियों को लेकर स्वत:संज्ञान मामले के साथ सूचीबद्ध कर दिया. शीर्ष अदालत ने कहा कि कार्यबल ने अंतिम रिपोर्ट सौंप दी है.

    सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में ऑक्सीजन की जरूरत को लेकर गठित उप-समिति ने भी अपनी अंतरिम रिपोर्ट दे दी है. न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एमआर शाह की पीठ ने कहा कि इस राष्ट्रीय कार्य बल में चूंकि देश भर के वरिष्ठ चिकित्सक और विशेषज्ञ शामिल हैं, इसलिए केंद्र को यह सुनिश्चित करना होगा कि वह वर्तमान और निकट भविष्य में किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए नीतिगत स्तर पर इन सिफारिशों को विधिवत रूप से लागू करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाये जाएं.

    ये भी पढ़ें : स्पेस की दुनिया में भारत की एक ओर उड़ान, इसरो के जीसेट-1 का साथ बदलेगी तस्वीर

    ये भी पढ़ें : धार्मिक सभाओं की इजाजत देने से केरल में बढ़े कोविड-19 के मामले, सरकारी पैनल के निदेशक ने कहा

    शीर्ष अदालत केंद्र सरकार की उस याचिका पर सुनवाई कर रहा थी जिसमें उसने दिल्ली उच्च न्यायालय की तरफ से केंद्र सरकार के अधिकारियों के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई शुरू करने के आदेश को चुनौती दी है. उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 मरीजों के लिए 700 मीट्रिक टन चिकित्सीय श्रेणी की ऑक्सीजन आपूर्ति के उसके आदेश का अनुपालन नहीं करने पर अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने को कहा था.

    उच्चतम न्यायालय ने हालांकि पांच मई को अवमानना कार्रवाई पर रोक लगा दी थी. इस कार्यबल ने 22 जून को अनुशंसा की थी कि जिस तरह देश में पेट्रोलियम उत्पादों की दो-तीन हफ्ते की खपत के लिए आरक्षित व्यवस्था रहती है उसी तर्ज पर जीवन रक्षक गैस के लिए भी दो-तीन हफ्ते के उपभोग के लिहाज से रणनीतिक आरक्षित व्यवस्था होनी चाहिए.

    Tags: COVID-19 pandemic, FORCE, Oxygen Supply, Supreme Court

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर