Assembly Banner 2021

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीशों के लाइफटाइम मासिक भुगतान को बढ़ाया

सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट जजेज रूल्स के नियम के मुताबिक एक रिटायर (सीजेआई) अपने जीवनकाल के दौरान, एक अर्दली, चालक और सुरक्षा गार्ड की सेवाओं के लिए हर महीने 25 हजार रुपये प्राप्त करने का हकदार है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 2:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के रिटायर जजों को दी जाने वाली जीवन भर मासिक भुगतान की राशि को बढ़ा दिया है. लॉ मिनिस्ट्री ने भारत के चीफ जस्टिस समेत सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जजो को लाइफटाइम मासिक भुगतान बढ़ाने के लिए सुप्रीम कोर्ट जज रूल्स, 1959 में संशोधन को लेकर नोटिफिकेशन जारी कर दिया है.

सुप्रीम कोर्ट जजिज रूल्स, 1959 के नियम 3बी के मुताबिक एक रिटायर (सीजेआई) अपने जीवनकाल के दौरान, एक अर्दली, चालक और सुरक्षा गार्ड की सेवाओं के लिए हर महीने 25 हजार रुपये प्राप्त करने का हकदार है. इस खर्च में कार्यालय का रखरखाव भी अनुबंध के तौर पर भी शामिल है. सुप्रीम कोर्ट जजिज रूल्स, 1959 (संशोधन) के नियमों 2021 के तहत गुरुवार (18 मार्च) को अधिसूचित रूप से यह राशि अब बढ़ाकर प्रति माह 70 हजार कर दी गई है.

2006 में अंतिम बार किया गया था संशोधन 
इसी तरह एक रिटायर सुप्रीम कोर्ट के न्यायधीश पहले अनुबंध के आधार पर ऑफिस मैंटेनेंस, अर्दली, चालक और सुरक्षा गार्ड की सेवाओं के लिए जीवन भर के 14 हजार रुपये के मासिक प्राप्त करने का हकदार है. यह लाइफटाइम का भुगतान प्रति माह रूपए 39 हजार रूपए कर दिया गया है. इन नियमों में 2006 में अंतिम बार संशोधन किया गया था.



दरअसल सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जजों के पेंशन और मासिक भत्ते को लेकर कई पूर्व चीफ जस्टिस से इसको बढ़ाने की बात कही थी. वहीं इसी मामले में विधि आयोग ने भी जजों के मासिक पेंशन को बढ़ाने के लिए रिकमेंडेशन के लिए भी भेजा था. जजो के पेंशन को लेेेकर केंद्र सरकार के द्वारा उठाया बड़ा कदम है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज