कोरोना की दूसरी लहर से पहले ही अवगत थी केंद्र सरकार, राज्यों को दी थी हिदायत

भारत में एक बार फिर कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

भारत में एक बार फिर कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

21 फरवरी को एक बार फिर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को लेटर लिखकर एडवाइजरी जारी की थी और राज्य सरकारों को RT-PCR टेस्ट बढ़ाने के साथ कोरोना महामारी रोकने को लेकर बड़े कदम उठाने की बात कही थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2021, 12:08 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश मे कोरोना की दूसरी लहर को लेकर केंद्र सरकार (Coronavirus Second wave) लगातार राज्यों को अगाह करती रही है. पिछले दिनों लगातार विपक्ष इस बात का आरोप लगा रहा है कि केंद्र सरकार कोरोना के दूसरी लहर से बेखबर थी और विशेषज्ञों के चेतवानी को नज़रअंदाज किया.

केंद्र के सरकारी सूत्र के मूताबिक इस साल के जनवरी से ही केंद्र सरकार कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंतित थी और राज्य सरकारों को उचित कदम उठाने की हिदायत भी देती रही. न्यूज़18 इंडिया को मिली जानकारी के मुताबिक, इस साल 7 जनवरी को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल सरकार को लिखकर उनके राज्य में कोरोना के बढ़ते मामले पर चेताया था और मामले की निगरानी और रोकथाम के लिए उचित कदम उठाने की सलाह दी थी.

फरवरी में केंद्र सरकार ने जारी थी एडवाइजरी

महाराष्ट्र, केरल, छतीसगढ़ और पश्चिम बंगाल वे राज्य थे जहां इस साल के शुरुआत से कोरोना के मामले बढ़ते देखे गए थे. 21 फरवरी को एक बार फिर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को लेटर लिखकर एडवाइजरी जारी की थी और राज्य सरकारों को RT-PCR टेस्ट बढ़ाने के साथ कोरोना महामारी रोकने को लेकर बड़े कदम उठाने की बात कही थी. केंद्र के लिखे पत्र में कहा गया था कि कैसे कुछ राज्यों खास तौर पर महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, केरल, पंजाब और जम्मू कश्मीर में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है. इन राज्यों को तत्काल कदम उठाने की बात कही गयी.
25 फरवरी को कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा ने 7 राज्यो के साथ एक समीक्षा बैठक की. उस बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़, गुजरात मे हालात बेकाबू दिख रहे है. गृह मंत्रालय ने फिर Multi Disciplinary High Level Central Team को इन राज्यो में भेजा था.

ये भी पढ़ेंः- कर्फ्यू में गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए शख्स ने लगाई मुंबई पुलिस से गुहार, मिला दिलचस्प जवाब





25 फरवरी के बाद 27 फरवरी को भी कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा ने तेलंगाना, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गुजरात, मध्यप्रदेश, जम्मू कश्मीर और पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव के साथ हाई लेवल समीक्षा बैठक की और इन राज्यों के बिगड़ते हालात पर चर्चा की. बैठक के बाद राज्य सरकारों को कहा गया कि कोरोना प्रोटोकॉल को सख्ती से पालन कराया जाए और टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट पर जोर दिया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज