सुशांत सिंह राजपूत पर सवाल पूछे जाने पर भावुक हुईं स्मृति ईरानी, कहा- वो हिम्मत वाला लड़का था

सुशांत सिंह राजपूत पर सवाल पूछे जाने पर भावुक हुईं स्मृति ईरानी, कहा- वो हिम्मत वाला लड़का था
स्मृति ईरानी ने कहा सुशांत की मृत्यु हो या फिर कंगना का गुस्सा हो मैं समझती हूं.

सुशांत की मौत पर News18 इंडिया के चौपाल कार्यक्रम में केंद्रीय स्मृति ईरानी ने कहा, 'जब मैंने ये खबर सुनी तो मैं एक वीडियो कॉन्फ्रेंस पर थी. मुझे उस कॉन्फ्रेंस को बंद करना पड़ा क्योंकि मैं अपने आंसुओं को रोक नहीं पाई थी.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 18, 2020, 7:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Smriti Irani) की मौत का रहस्य लगातार गहराता जा रहा है. सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर News18 इंडिया (News18 India Chaupal) के चौपाल कार्यक्रम में केंद्रीय स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने कहा, 'जब मैंने ये खबर सुनी तो मैं एक वीडियो कॉन्फ्रेंस पर थी. मुझे उस कॉन्फ्रेंस को बंद करना पड़ा क्योंकि मैं अपनी आंखों के आंसुओं को रोक नहीं पाई थी.' स्मृति ईरानी ने कहा, मैं और सुशांत एक ही परिसर में काम किया करते थे. सुशांत की मौत के बाद मैं जिस परिसर में काम किया करती थी वहां सभी को फोन किया और कहा कि ये सच नहीं हो सकता.

सुशांत सिंह राजपूत मामले पर कार्यक्रम के दौरान स्मृति ईरानी भावुक हो गईं. नम आंखों से स्मृति ईरानी ने कहा, 'मुझे आज कष्ट होता है जब उनके परिवार पर टिप्पणी की जाती है. मेरी तो ये आज सिर्फ एक अपील हो सकती है कि उस परिवार ने अपने बेटे को खोया है इसलिए उस पर किसी भी तरह की अमर्यादित टिप्पणी करने से बचें. जिससे कम से कम आत्मा सुशांत की विचलित नहीं होगी. मैं आशावादी हूं कि न्याय पूरी तरह से होगा.'

सुशांत की मौत और कंगना का गुस्सा मैं समझती हूं
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, 'मैं ये जानती हूं क्योंकि मैं उस इंडस्ट्री का हिस्सा रह चुकी हूं कि बड़ी मशक्कत के बाद आप एक स्थान पर पहुंचते हैं. आपके पास सपोर्ट सिस्टम काफी कम होता है. सुशांत की मृत्यु हो या फिर कंगना का गुस्सा हो मैं समझती हूं कि जब ऐसी परिस्थितियां होती हैं और आप संघर्ष करके इतने आगे पहुंचते हैं तो ऐसा कुछ होने पर आप खुद को चुप नहीं रख पाते हैं.'
आगे बोलते हुए स्मृति ईरानी ने कहा, 'सुशांत सिंह राजपूत मामले पर बोलना मेरे लिए बहुत मुश्किल है. मैं समझ नहीं पाई कि आखिरकार ऐसा क्या हुआ. जब उसकी मौत की खबर आई तो मैंने एक एक्टर दोस्त को फोन किया तो उन्होंने कहा कि स्मृति तुम हम लोगों को छोड़कर दिल्ली चली गई. इतनी उम्मीदें, इतने सपने और भविष्य में इतनी अपार संभावनाएं हैं. इसलिए मैं समझ नहीं पा रही हूं. मेरी आत्मा तक को इस मामले ने झकझोर कर रख दिया है. पढ़ाई में अच्छा था, अध्यात्म में परिपूर्ण था. इसलिए मैं आशावादी हूं कि उसे न्याय मिलेगा.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज