लाइव टीवी

वामपंथी विचारकों के हाउस अरेस्ट पर केंद्र ने कहा- 'वो नक्सलियों की कर रहे थे आर्थिक मदद'

News18Hindi
Updated: August 29, 2018, 6:00 PM IST
वामपंथी विचारकों के हाउस अरेस्ट पर केंद्र ने कहा- 'वो नक्सलियों की कर रहे थे आर्थिक मदद'
पुणे में प्रदर्शन करते हुए दलित समूह

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि यह साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि गिरफ्तार किए गए एक्टीविस्ट आतंकवादी संगठनों के साथ गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 29, 2018, 6:00 PM IST
  • Share this:
वामपंथी विचारकों को गिरफ्तार करने के लिए केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र पुलिस का समर्थन किया है. गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि गिरफ्तार आरोपी नक्सलियों की सहायता कर रहे थे यह दिखाने के लिए पर्याप्त सबूत हैं.

मंगलवार को महाराष्ट्र पुलिस ने कई वामपंथी कार्यकर्ताओं, लेखकों और वकीलों के घर पर छापा मारा और नक्सलियों से उनके कथित संबंधों के आरोप में 5 को गिरफ्तार कर लिया. भीमा-कोरेगांव हिंसा से संबंधित जांच में हुई इस गिरफ्तारी का अन्य मानवाधिकार कार्यकर्ता विरोध कर रहे हैं.

पिछले साल पुणे के भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसा को कथित तौर पर यलगार परिषद ने अंजाम दिया था, जिसमें पिछले साल 31 दिसंबर को कई वामपंथी संगठन और कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया था.

अधिकारी ने कहा, 'लिखना और विचारधारा का प्रचार करना अलग है, लेकिन अगर आप नियमों से परे काम कर रहे हैं तो कार्रवाई की जानी चाहिए. अगर आप वित्तीय और सैन्य सहायता प्रदान करते हैं तो आप हिंसा की सहायता और समर्थन कर रहे हैं.'

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि यह साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि गिरफ्तार किए गए एक्टिविस्ट आतंकवादी संगठनों के साथ गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं. गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सीएनएन न्यूज 18 को बताया, 'महाराष्ट्र पुलिस के पास इस बात के सबूत हैं कि इन लोगों ने ऐसे संगठनों के साथ गठजोड़ करना शुरू कर दिया है. जिनका वामपंथी विचारधारा से कोई लेना-देना नहीं है. दोनों के बीच केवल इतनी समानता है कि दोनों का दुश्मन एक ही है.'

गृह मंत्रालय ने साफ किया कि गिरफ्तारी किसी राजनीतिक उद्देश्य के तहत नहीं की गई है. गृह मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि पिछली सरकार में भी जी एन साईबाबा से कोबाद गांधी तक नक्सलियों से सहानुभूति रखने वालों की गिरफ्तारी हुई थी.

ये भी पढ़ें: नज़रबंद रहेंगे वामपंथी विचारक, 6 सितंबर को SC में अगली सुनवाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2018, 5:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर