कोरोना की विदेशी राहत सामग्री के वितरण में देरी के आरोप पर सरकार ने दी सफाई

विदेश से आ रही है मदद सामग्री. (File pic)

विदेश से आ रही है मदद सामग्री. (File pic)

Coronavirus in India: सरकार ने मंगलवार को विदेशी मदद (Foreign Corona Aid) के वितरण की पूरी प्रकिया के बारे में बताया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत में फैले कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) से निपटने के लिए सरकारी स्‍तर पर हरसंभव कोशिश की जा रही है. कई देश भी भारत को जरूरी उपकरण और अन्‍य सामग्री भेज रहे हैं. वहीं सरकार पर कोरोना (Covid 19) से निपटने के लिए विदेश से मदद के रूप में आ रहे उपकरण और अन्‍य सामग्रियों के वितरण में देरी और लालफीताशाही के आरोप भी लगाए जा रहे हैं. इस बीच सरकार ने मंगलवार को विदेशी मदद (Foreign Corona Aid) के वितरण की पूरी प्रकिया के बारे में बताया है.

सोमवार को यह मामला दिल्‍ली हाईकोर्ट में भी उछला था. हाईकोर्ट में एक अस्‍पताल ने दावा किया था कि करीब 3000 ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर और अन्‍य जरूरी मेडिकल उपकरण कस्‍टम विभाग के अंतर्गत रुके हुए हैं. वहीं सरकार ने इन आरोपों से इनकार किया है कि कोविड से संबंधित कोई भी सामग्री क्लियरेंस के लिए लंबित है.

Youtube Video


वहीं एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि कोरोना से निपटने के लिए करीब 20 विमान विदेशी मदद लेकर यहां पहुंचे हैं. इनमें करीब 900 ऑक्‍सीजन सिलेंडर, 1600 ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर, 1217 वेंटिलेटर और अन्‍य जरूरी दवाएं व उपकरण शामिल हैं.
सरकार ने मंगलवार को विदेशी मदद मिलने और उसके वितरण की पूरी प्रक्रिया को समझाया है. सरकार का कहना है कि विदेश से मिलने वाली मदद तय करने के लिए विदेश मंत्रालय को नोडल एजेंसी बनाया गया है.



वहीं स्वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने एक सेल गठित किया है. इसका काम कोरोना राहत सामग्री, अनुदान और दान प्राप्‍त करने व उनका आवंटन करना है. नीति आयोग के प्रमुख के नेतृत्‍व में एक कमेटी बनाई गई है, जो इस पूरे ऑपरेशन की निगरानी कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज