Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    नड्डा का कैप्टन पर तीखा निशाना- केंद्र ट्रेनें चलाना चाहता है, आप अपनी ड्यूटी नहीं निभा रहे

    बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा
    बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा

    पंजाब में मालगाड़ियों के निलंबन पर जेपी नड्डा (JP Nadda) ने कहा है कि इसके लिए कैप्टन अमरिंदर (Captain Amarinder singh) और उनकी सरकार जिम्मेदार है क्योंकि उन्होंने ही किसानों को भड़काने की कोशिश की.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 4, 2020, 10:58 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder singh) पर तीखा प्रहार किया है. पंजाब में मालगाड़ियों (Good Train) के निलंबन (Suspension) पर उन्होंने कहा है कि इसके लिए कैप्टन अमरिंदर और उनकी सरकार जिम्मेदार है क्योंकि उन्होंने ने ही किसानों को भड़काने की कोशिश की.

    गौरतलब है कि पंजाब के मुख्यमंत्री ने रविवार को कहा था कि उन्होंने जेपी नड्डा को खुला खत लिखकर इस मुद्दे पर चिंता जाहिर की है. अब नड्डा ने कहा है कि उन्हें ऐसा कोई खत मिला ही नहीं लेकिन वो मीडिया से मिली जानकारियों के आधार पर जवाब दे रहे हैं.


    इससे पहले खबर आई थी कि पंजाब में राज्य बिजली बोर्ड अब दो से तीन घंटे बिजली में कटौती करेगा. इसका कारण निजी क्षेत्र के तीन तापीय बिजलीघरों में ईंधन नहीं होने से बिजली उत्पादन बंद होना है. दो अन्य विद्युत संयंत्रों में भी कोयला बहुत कम बचा है.केंद्र के तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के प्रदर्शन और कुछ रेल पटरियों को बाधित किए जाने से रेलवे ने राज्य में माल गाड़ियों की आवाजाही निलंबित कर दी है. इससे तापीय बिजलीघरों को होने वाली कोयले की आपूर्ति प्रभावित हुई है.



    स्थिति बेहद गंभीर
    अधिकारी ने कहा कि मांग और आपूर्ति में अंतर और गंभीर होती स्थिति को देखते हुए पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन लि. (पीएसपीसीएल) दो-तीन घंटे की बिजली कटौती कर रहा है.पीएसपीसीएल के चेयरमैन ए वेणु प्रसाद ने कहा, ''बिजली की स्थिति गंभीर है. फिलहाल दो से तीन घंटे की बिजली कटौती की घोषणा की जा रही है लेकिन आगे बिजली कटौती को बढ़ाकर चार से पांच घंटे भी किया जाएगा.''

    निजी क्षेत्र की कंपनी जीवीके पावर ने कहा कि उसने मंगलवार को दापेहर तीन बजे से परिचलन बंद कर दिया है क्योंकि कोयला भंडार पूरी तरह से समाप्त हो चुका है. दो अन्य निजी बिजली संयंत्र राजपुरा में नभा पावर और मनसा में तलवंडी साबो कोयले की किल्लत के कारण पहले ही परिचालन बंद कर चुके हैं. अधिकारियों के अनुसार सार्वजनिक क्षेत्र की दो बिजली कंपनियों लहरा मोहब्बत और रोपड़ बिजलीघरों में भी कोयला एक या दो दिन का ही बचा है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज