केंद्र सरकार ने असम के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए जारी किए 250 करोड़ रुपये, मृतकों की संख्या हुई 17

असम के 33 जिलों में 30 बाढ़ की चपेट आ चुके हैं. असम के मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को फंड जारी करने के लिए धन्यवाद दिया.

News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:16 AM IST
केंद्र सरकार ने असम के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए जारी किए 250 करोड़ रुपये, मृतकों की संख्या हुई 17
असम में अब तक 45 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हो चुके हैं. राज्य के 33 में 30 जिले बाढ़ की जद में आ चुके हैं.
News18Hindi
Updated: July 17, 2019, 7:16 AM IST
असम में बाढ़ की हालत लगातार गंभीर होती जा रही है. राज्य के 33 में 30 जिले बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं. सूबे में बाढ़ से मरने वालों की संख्या 17 हो गई है. ऐसे में केंद्र सरकार ने मंगलवार को बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 251.55 करोड़ रुपये की सहायता राशि जारी कर दी. यह राशि वर्ष 2019-20 के लिए स्टेट डिजास्टर रिलीफ फंड (SDRF) में केंद्र के हिस्से से जारी की गई है.

4,620 गांवों के 45 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित
असम के मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने फंड जारी करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का धन्यवाद किया. उन्होंने कहा कि इससे बाढ़ पीड़ितों के लिए चलाए जा रहे राहत अभियान में काफी मदद मिलेगी. असम स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (ASDMA) के मुताबिक, राज्य के 4,620 गांवों के 45 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. इनमें 1,01,085 लोगों को 226 राहत शिविरों में पहुंचा दिया गया है. प्रभावित लोगों तक मदद पहुंचाने के लिए राज्य में 562 वितरण केंद्र स्थापित किए गए हैं.

कामरूप जिले के पानीखैती में एक परिवार को बाढ़ से बचने के लिए घर की छत पर शरण लेनी पड़ी.


1,556 गांव बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित
असम के धीमाजी, बिस्वनाथ, सोनितपुर, दरांग, बक्सा, बारपेट, नलबाड़ी, चिरांग, बोंगईगांव, कोकराझार, गोलपारा, मोरीगांव, होजाई, नागांव, गोलाघाट, मजुली, जोरहाट, शिवसागर, डिब्रूगढ़, तिनसुकिया जिलों के 1,556 गांव बाढ़ से बहुत बुरी तरह प्रभावित हैं. एएसडीएमए के मुताबिक, बारपेट में सबसे ज्यादा 7.35 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. वहीं, मोरीगांव के 3.50 लाख लोगों पर असर हुआ है. धुबरी में 3.38 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं.

असम के मोरीगांव जिले के एक बाढ़ प्रभावित गांव में कंटेनर में बच्चे को बैठाकर ले जाता एक व्यक्ति.

Loading...

काजीरंगा नेशनल पार्क के आसपास धारा-144 लागू 

एनडीआरएफ के साथ ही सेना को भी लोगों की मदद के लिए असम भेजा गया है. राज्य में हुई भारी बारिश के कारण ब्रह्मपुत्र नदी खतरे के निशान से उपर बह रही है. कालीपुर में चक्रेश्वर मंदिर में पानी घुस गया है. काजीरंगा नेशनल पार्क के आसपास के इलाकों में धारा-144 लागू कर दी गई है. असम के वन व पर्यावरण मंत्रालय ने कहा है कि गोलाघाट और नागांव जिले में काजीरंगा नेशनल पार्क का 90 फीसदी हिस्सा अब भी डूबा हुआ है. बाढ़ के कारण 150 शिकार रोधी कैंप प्रभावित हुए हैं. संबंधित विभाग यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शिकार रोकने के लिए दिन रात काम कर रहे हैं.

गोलाघाट और नागांव जिले में काजीरंगा नेशनल पार्क का 90 फीसदी हिस्सा अब भी डूबा हुआ है.


राहुल ने कार्यकर्ताओं से की लोगों की मदद करने की अपील 

राहुल गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से असम, बिहार, उत्तर प्रदेश, त्रिपुरा और मिजोरम में राहत व बचाव कार्य में जुटने की अपील की है. उन्होंने कहा कि इन राज्यों में हालात बेकाबू हो रहे हैं. जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है. कांग्रेस कार्यकर्ता लोगों की हरसंभव मदद करें.



ये भी पढ़ें:

बड़ा हादसा: मुंबई में 4 मंजिला इमारत गिरी, 10 लोगों की मौत, 8 घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 7:10 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...