• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • 'ऑक्‍सीजन की कमी से नहीं, तकनीकी समस्‍या के कारण कोरोना मरीजों की मौत'

'ऑक्‍सीजन की कमी से नहीं, तकनीकी समस्‍या के कारण कोरोना मरीजों की मौत'

केंद्र ने कहा, ऑक्‍सीजन की कमी से देश में एक भी मौत नहीं हुई है. (फाइल फोटो)
 (AP Photo/Jorge Saenz)

केंद्र ने कहा, ऑक्‍सीजन की कमी से देश में एक भी मौत नहीं हुई है. (फाइल फोटो) (AP Photo/Jorge Saenz)

कांग्रेस (Congress) ने संसद सत्र के दौरान केंद्र के उस दावे का खंडन किया था कि तमिलनाडु (Tamilnadu) में ऑक्‍सीजन की कमी के चलते एक भी मौत नहीं हुई है. कांग्रेस के खंडन के एक दिन बाद ही अब तमिलनाडु के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने भी अस्‍पतालों में ऑक्‍सीजन की कमी की बात को नकार दिया है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. संसद (Parliament) के मानसून सत्र (Monsoon Session) के पहले दिन से ही दोनों सदनों में कोरोना (Corona) का मुद्दा हावी है. विपक्ष कोरोना की दूसरी लहर (Second Wave) के दौरान ऑक्‍सीजन की कमी (Oxygen Shortage) के कारण हुई मरीजों की मौत को लेकर केंद्र पर हमलावर है तो वहीं केंद्र सरकार ने संसद में बताया है कि किसी भी राज्य या केंद्रशासित प्रदेश से ऑक्‍सीजन की कमी के चलते किसी भी मरीज की मौत रिपोर्ट नहीं की है. बता दें कि कांग्रेस ने संसद सत्र के दौरान केंद्र के उस दावे का खंडन किया था कि तमिलनाडु में ऑक्‍सीजन की कमी के चलते एक भी मौत नहीं हुई है. कांग्रेस के खंडन के एक दिन बाद ही अब तमिलनाडु के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने भी अस्‍पतालों में ऑक्‍सीजन की कमी की बात को नकार दिया है.

    तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री एम. सुब्रमण्यम ने कहा है कि राज्‍य में ऑक्‍सीजन की कमी के कारण नहीं, बल्कि तकनीकी खामी की वजह से 19 कोरोना मरीज़ों की मौत हुई है. उन्‍होंने कहा ऑक्‍सीजन पर्याप्‍त मात्रा में मौजूद थी, लेकिन तकनीकी खामी जैसे अपर्याप्‍त दबाव या ऑक्‍सीजन पाइपलाइन में समस्‍या के चलते मरीजों ने दम तोड़ दिया.

    इसे भी पढ़ें :- कोरोना के नए वेरिएंट्स के खिलाफ पड़ सकती है वैक्सीन बूस्टर शॉट्स की जरूरत, एम्स डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा

    बता दें कि केंद्र सरकार ने कोविड-19 की जारी की गई रिपोर्ट में कहा है कि ऑक्सीजन की आपूर्ति से कोई मौत नहीं हुई है. इस रिपोर्ट में केंद्र सरकार बताया है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में किसी भी मरीज की ऑक्सीजन की कमी के कारण मौत दर्ज नहीं की गई है. रिपोर्ट में केंद्र ने दावा किया है क‍ि दूसरी लहर के दौरान राज्यों को कुल 4,02,517 ऑक्सीजन सिलेंडर वितरित किए गए थे. केंद्र सरकार की इस रिपोर्ट पर विपक्ष लगातार हमलावर है.

    इसे भी पढ़ें :- क्या सितंबर-अक्टूबर में आएगी कोरोना वायरस की तीसरी लहर? जानें AIIMS निदेशक ने क्या कहा

    वहीं तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री एम. सुब्रमण्यम ने कहा है कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए मुख्‍यमंत्री ने युद्धस्‍तर पर काम किया है. जब कभी भी हमें ऑक्सीजन की कमी महसूस हुई, हम तुरंत केंद्र के संपर्क में आए और उनसे ऑक्सीजन मंगवाई. एम. सुब्रमण्यम ने तमिलनाडु में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा का हवाला देते हुए कहां की 'यही कारण रहा कि तमिलनाडु को किसी बड़े प्रभावों का सामना नहीं करना पड़ा.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज