लाइव टीवी

केंद्रीय मंत्री ने लोकसभा में दी सफाई, जगन के तीन राजधानी के कदम में केंद्र नहीं देगा कोई दखल

News18Hindi
Updated: February 4, 2020, 8:50 PM IST
केंद्रीय मंत्री ने लोकसभा में दी सफाई, जगन के तीन राजधानी के कदम में केंद्र नहीं देगा कोई दखल
गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय की फाइल फोटो

गृह राज्यमंत्री (Minister of State for Home Affairs) नित्यानंद राय (Nityanand Rai) ने कहा है कि यह राज्य का अधिकार है कि वह अपनी राजधानी तय करे क्योंकि यह उनके क्षेत्र में आती है. वे टीडीपी सांसद (TDP MP) जयदेव गल्ला के सवाल के जवाब में यह बात कही.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2020, 8:50 PM IST
  • Share this:
अमरावती. केंद्र सरकार (Central Government) ने कहा है कि राज्य सरकारों (State Government) को अपनी राजधानी (Capital) के तौर पर किसी शहर को चुनने का विशेषाधिकार है.

मंगलवार को लोकसभा में प्रश्नकाल (Question Hour) के दौरान, गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय (Nityanand Rai) ने कहा कि यह राज्य का अधिकार है कि वह अपनी राजधानी तय करे क्योंकि यह उनके क्षेत्र में आती है. उन्होंने यह बात YSRCP के आंध्र प्रदेश की तीन राजधानियां बनाने के फैसले पर टीडीपी सांसद जयदेव गल्ला के पूछे सवाल के उत्तर में बताई.

अपने क्षेत्र के अंदर ले सकती राजधानी का निर्णय लेना राज्य सरकार का विशेषाधिकार
टीडीपी सांसद (TDP MP) यह भी जानना चाहते थे कि क्या केंद्र सरकार, राज्य को ऐसा फैसला न लेने के की सलाह दे सकती है?

केंद्रीय गृहराज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा, "हाल ही में ऐसी मीडिया रिपोर्ट्स सामने आई थीं जिसमें राज्य सरकार के आंध्र प्रदेश की तीन राजधानियां (Three Capitals) बनाने का इशारा किया गया था. यह सभी राज्यों के लिए है कि वह अपने राज्य के क्षेत्र के अंदर राजधानी को लेकर निर्णय ले सकते हैं."

विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका के लिए बनाई जा रहीं अलग-अलग राजधानियां
दक्षिण भारत के इस राज्य में मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी की सरकार के आंध्र प्रदेश की तीन राजधानियां बनाने के निर्णय के बाद से विरोध प्रदर्शन होने लगे थे. इस फैसले के बाद आंध्र प्रदेश की विशाखापट्टनम और कुर्नूल को क्रमश कार्यपालिका और न्यायपालिका की राजधानी बनाया जाना था. वहीं अमरावती (Amravati) को विधायिका की राजधानी बनाया जाना था.अमरावती के किसानों से TDP ने किया था विश्वस्तरीय राजधानी बनाने का वादा
वे किसान जिन्होंने अपनी जमीनें अमरावती के इलाके में लिए दी थी, उनसे चंद्रबाबू के नेतृत्व वाली पिछली सरकार ने इसे विश्वस्तररीय राजधानी बनाने का वादा किया था. ये किसान (Farmers) अब तीन राजधानी के फैसले के विरोध में सड़क पर उतर आए हैं और टीडीपी ने उनके विरोध प्रदर्शनों को अपना समर्थन दिया है.

नायडू, जन सेना पार्टी के प्रमुख पवन कल्याण (Pawan Kalyan) और कुछ बीजेपी नेताओं ने पहले केंद्र सरकार से रेड्डी को इस योजना को आगे बढ़ाने से रोकने के लिए हस्तक्षेप करने की गुजारिश की थी.

यह भी पढ़ें: लोकसभा में सरकार ने बताया- JNU हिंसा में घायल हुए थे 51 लोग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 8:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर