Assembly Banner 2021

चुनाव आयोग ने पंजाब विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कीं, अधिकारियों को दिए खास निर्देश

चुनाव आयोग ने शुरू की पंजाब विधानसभा चुनाव की तैयारी (सांकेतिक तस्वीर)

चुनाव आयोग ने शुरू की पंजाब विधानसभा चुनाव की तैयारी (सांकेतिक तस्वीर)

Punjab Assembly Elections: पंजाब राज्य में विधानसभा चुनाव अगले साल के शुरू में होने हैं और मुख्य चुनाव अधिकारी (Chief Electoral Officer) ने वोटर सूची को निरंतर अपडेट के लिए मुहिम पहले ही शुरू कर दी है.

  • Share this:
चंडीगढ़. राज्य में अगले साल के शुरू में होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly election) के मद्देनजर मुख्य चुनाव अधिकारी (सी.ई.ओ.) पंजाब डॉ. एस करुणा राजू (Chief Electoral Officer Dr. S. Karuna Raju) ने चुनाव अधिकारियों को तैयार रहने की हिदायत दी है. इस संबंध में आज गूगल मीट द्वारा पंजाब के सभी 22 जिलों के चुनाव तहसीलदारों और चुनाव कानूनगो के साथ मीटिंग की गई.

मोबाइल एप्लीकेशन यूज करने के निर्देश
पंजाब राज्य में विधानसभा चुनाव अगले साल के शुरू में होने हैं और मुख्य चुनाव अधिकारी (Chief Electoral Officer) ने वोटर सूची के निरंतर अपडेट के लिए मुहिम पहले ही शुरू कर दी है. मौजूदा महामारी के दौरान प्रौद्यौगिकी एक अहम भूमिका अदा कर रही है और इससे मोबाइल एप्लीकेशनों की भूमिका कई गुना बढ़ जाती है. उन्होंने सभी अधिकारियों को मोबाइल ऐप्लीकेशन का अधिक से अधिक प्रयोग करने का निर्देश दिया. इन ऐप्स में मुख्य तौर पर आम लोगों के लिए वोटर हेल्पलाइन ऐप, अपंग व्यक्तियों के लिए पीडब्ल्यूडी ऐप, बूथ स्तर अधिकारियों (बी.एल.ओज़) के लिए गरुड़ ऐप शामिल हैं.

ये भी पढ़ें- केंद्र का बड़ा फैसला,45 साल के सभी केंद्रीय कर्मचारियों को कोरोना टीका की सलाह
Youtube Video




सी.ई.ओ. पंजाब डॉ. एस. करुणा राजू ने कहा कि विकेंद्रीकरण पहुंच स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव यकीनी बनाने में सहायक होती है. उन्होंने अधिकारियों को सभी पोलिंग बूथों की खुद तस्दीक करने और कोविड-19 की स्थिति के मद्देनजर (COVID-19 situation) और ज्यादा स्थानों का सुझाव देने और सभी उचित आंकड़ों को अपडेट करने के निर्देश दिए.

अतिरिक्त सी.ई.ओ. माधवी कटारिया ने फील्ड अफसरों को हिदायत की कि वह अपंग व्यक्तियों के लिए मोबाइल ऐप्लीकेशन खासकर पी.डब्ल्यू.डी ऐप को बढ़ावा देने के लिए एक विशेष मुहिम शुरू करें. भारतीय चुनाव आयोग की नई पहलकदमी ‘हैलो वोटर्स’ को बढ़ावा देने की जरूरत है. जि़ला स्वीप आइकॉन ’हैलो वोटर्स’ के लिए छोटे ऑडियो क्लिप तैयार करेंगे.

ये भी पढ़ें- बंगाल चुनाव से पड़ेगा यूपी की मुस्लिम राजनीति पर असर, क्यों सभी की निगाहें ओवैसी पर हैं?

फील्ड अफसरों को निर्देश दिए गए कि वह आउटरीच गतिविधियों के लिए बेहतर ढंग से प्रौद्यौगिकी का प्रयोग करें. पीडब्ल्यूडीज़, ट्रांसजेंडर, नौजवानों आदि के लिए वर्ग अनुसार गूगल मीट्स और वेबिनारों का सुझाव दिया गया. फील्ड अफसरों को हिदायत की गई कि वह सोशल मीडिया का प्रभावशाली ढंग से प्रयोग करके जानकारी का प्रचार करें और लक्षित वोटरों ख़ासकर नौजवानों के दरमियान चुनाव संबंधी जागरूकता पैदा करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज