Assembly Banner 2021

Uttarakhand Flood: संकट की घड़ी में CM केजरीवाल की उत्तराखंड सरकार को मदद की पेशकश

ग्लेशियर (Glaociers)  से जानमाल का नुकसान बहुत ज्यादा हो सकता है, इसलिए इनपर निगरानी बहुत जरूरी है.  फोटो साभारः AP)

ग्लेशियर (Glaociers) से जानमाल का नुकसान बहुत ज्यादा हो सकता है, इसलिए इनपर निगरानी बहुत जरूरी है. फोटो साभारः AP)

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने चमोली में हिमखंड टूटने के कारण अचानक आई बाढ़ की स्थिति पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार सभी पीड़ितों को तुरंत सहायता मुहैया कराए. उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से भी राहत कार्य में हाथ बटाने को कहा है

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 8, 2021, 4:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उत्तराखंड के चमोली (Chamoli) जिले में ग्लेशियर (हिमखंड) टूटने से आए जल प्रलय (Chamoli Avalanche) से जान और माल की भारी तबाही की आशंका है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बात कर हादसे से उत्पन्न स्थित पर चर्चा की है. साथ ही उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध कराने की बात कही है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस आपदा पर दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'चमोली ज़िले से आपदा की खबर बेहद चिंताजनक है, ईश्वर से सभी लोगों की सुरक्षा एवं कुशलता की प्रार्थना करता हूं. इस मुश्किल घड़ी में उत्तराखंड की जनता तक हर संभव मदद पहुंचाने के लिए दिल्ली सरकार तैयार है.'





वहीं कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने चमोली में हिमखंड टूटने के कारण अचानक आई बाढ़ की स्थिति पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार सभी पीड़ितों को तुरंत सहायता मुहैया कराए. उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से भी राहत कार्य में हाथ बटाने को कहा है. राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘चमोली में ग्लेशियर फटने से बाढ़ त्रासदी बेहद दुखद है. मेरी संवेदनाएं उत्तराखंड की जनता के साथ हैं.’
Youtube Video


उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सभी पीड़ितों को तुरंत सहायता दे. कांग्रेस के साथी भी राहत कार्य में हाथ बटाएं.



बता दें कि रविवार सुबह चमोली जिले में ऋषि गंगा घाटी में हिमखंड टूटने से अलकनंदा और इसकी सहायक नदियों में अचानक विकराल बाढ़ आ गई. सुबह जैसे ही ग्लेशियर टूटने की खबर आई एनडीआरएफ, आटीबीपी, एसडीआरएफ की टीमों को रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए मौके के लिए रवाना कर दिया गया. उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) अशोक कुमार ने बताया कि बाढ़ के बाद करीब 50-100 लोग लापता हैं. रेस्क्यू ऑपरेशन में दो शव मिले हैं और कुछ घायलों को बचाया गया है. उन्होंने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है. हालांकि तपोवन-रैणी में स्थित बिजली संयंत्र पूरी तरह से बह गया है. (भाषा से इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज