बीजेपी से झटके के बाद नायडू ने की सांसदों से बात, कहा- घबराने की बात नहीं

चंद्रबाबू नायडू ने सांसदों को चिंता न करने के लिए कहा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि चार सांसदों द्वारा ये कहने का कोई भी प्रयास सफल नहीं होगा कि वे उनके कारण बीजेपी में शामिल हुए.

News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 8:30 PM IST
बीजेपी से झटके के बाद नायडू ने की सांसदों से बात, कहा- घबराने की बात नहीं
4 राज्यसभा सांसदों के बीजेपी में शामिल होने के बाद चंद्रबाबू नायडू ने टीडीपी सांसदों को चिंता न करने के लिए कहा है (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 8:30 PM IST
आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू की तेलगू देशम पार्टी के चार राज्यसभा सांसदों ने गुरुवार को बीजेपी जॉइन कर ली. इसके साथ ही उन्होंने उप-राष्ट्रपति को उनकी पार्टी को बीजेपी में विलय करने के लिए भी पत्र लिखा है. पार्टी को लगे इस जोरदार झटके के बाद पार्टी प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू ने अपने सांसदों से फोन पर बातचीत की.

चंद्रबाबू नायडू ने सांसदों को चिंता न करने के लिए कहा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि चार सांसदों द्वारा ये कहने का कोई भी प्रयास सफल नहीं होगा कि वे उनके कारण बीजेपी में शामिल हुए. नायडू ने कहा कि सांसदों ने अपने व्यक्ति हित और व्यक्तिगत कारणों से ऐसा किया.

नायडू ने इसके साथ ही कहा कि सांसदों के पास पार्टी को बीजेपी में शामिल करने का कोई अधिकार नहीं है. वे पार्टी अध्यक्ष या अधिकारी नहीं हैं. नायडू और टीडीपी चार सांसदों के इस कदम से निपटने के लिए सभी विकल्पों पर विचार कर रहे हैं.

चार सांसदों ने सौंपा विलय का प्रस्ताव

टीडीपी के चार सदस्यों वीई एस चौधरी, सी एम रमेश, जी मोहन राव, और टी जी वेंकटेश ने गुरुवार को अपनी पार्टी के बीजेपी में विलय का प्रस्ताव सभापति एम वेंकैया नायडू को सौंपा. पत्र में उन्होंने कहा कि टीडीपी के राज्यसभा में नेता चौधरी की अध्यक्षता में पार्टी की विधायी दल की बैठक में यह फैसला किया गया. उच्च सदन में पार्टी के उप नेता रमेश भी इस बैठक में उपस्थित थे.

चारों सदस्यों ने सभापति से संविधान की दसवीं अनुसूची के पैरा चार के तहत भाजपा में अपने गुट का तत्काल प्रभाव से विलय करने का अनुरोध किया है. राज्यसभा सचिवालय के एक अधिकारी ने बताया कि टीडीपी के चारों सदस्यों ने बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा और राज्यसभा में नेता सदन थावर चंद गहलोत की मौजूदगी में नायडू से मुलाकात कर उन्हें इस आशय के प्रस्ताव का अनुरोध पत्र सौंपा. इसमें उन्होंने नायडू से विलय के प्रस्ताव को मंजूरी देने का अनुरोध किया है.

ये भी पढ़ें: टीडीपी को जोरदार झटका, बीजेपी में शामिल हुए चार सांसद
Loading...

शाह ने भी लिखा पत्र

सूत्रों के अनुसार बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी नायडू को पत्र लिखकर विलय को मंजूरी देने का अनुरोध किया है. गौरतलब है कि चार सदस्यों का समर्थन मिलने से उच्च सदन में बहुमत के संकट से जूझ रही बीजेपी को राहत मिलेगी. बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए के पास राज्यसभा में फिलहाल बहुमत नहीं है.

क्या कहता है दलबदल विरोधी कानून

आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू की अध्यक्षता वाली टीडीपी के राज्यसभा में छह सदस्य हैं. दलबदल विरोधी कानून के मुतबिक किसी दल से अलग हुए नए गुट को तभी मान्यता मिलेगी जबकि उसके दो तिहाई सदस्य इस गुट में शामिल हों. पार्टी के शेष दो सदस्य के रवीन्द्र कुमार और थोटा सीताराम लक्ष्मी हैं.

ये भी पढ़ें: इधर के रहे न उधर के, चंद्रबाबू नायडू के लिए क्या बंद हो चुके हैं सारे रास्ते?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 20, 2019, 8:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...