अपना शहर चुनें

States

आंध्र प्रदेश: चंद्रबाबू नायडू समेत TDP के 14 विधायक विधानसभा से एक दिन के लिए निलंबित

कार्य मंत्री बी राजेन्द्रनाथ ने टीडीपी विधायकों को एक दिन के लिए सदन से निलंबित करने का प्रस्ताव पेश किया जिसे ध्वनिमत से पारित कर दिया गया. फाइल फोटो
कार्य मंत्री बी राजेन्द्रनाथ ने टीडीपी विधायकों को एक दिन के लिए सदन से निलंबित करने का प्रस्ताव पेश किया जिसे ध्वनिमत से पारित कर दिया गया. फाइल फोटो

आंध्र प्रदेश विधानसभा के पहले दिन पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) समेत टीडीपी ने 14 विधायकों ने किसानों के मुद्दे पर जमकर प्रदर्शन किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2020, 8:00 PM IST
  • Share this:
अमरावती. आंध्र प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र (Andhra Pradesh Assembly Winter Session) के पहले दिन सोमवार को मुख्य विपक्षी दल तेलुगू देसम पार्टी के नेता चंद्रबाबू नायडू समेत पार्टी के 14 सदस्यों को अध्यक्ष के आसन के सामने धरना प्रदर्शन करने पर एक दिन के लिए सदन से निलंबित कर दिया गया.

पहली बार चंद्रबाबू नायडू अपनी पार्टी के सदस्यों के साथ सदन में जमीन पर बैठे जिसके बाद मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी (Jagan Mohan Reddy) ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि इससे पहले विपक्ष के किसी नेता ने सदन में ऐसा व्यवहार नहीं किया.

टीडीपी नेता, सत्ताधारी दल वाईएसआर कांग्रेस (YSR Congress) के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे. उनका कहना था कि उन्हें किसानों को दी जाने वाली सहायता राशि समेत अन्य मुद्दों पर बोलने का मौका नहीं दिया जा रहा है.



कृषि मंत्री के. कन्ना बाबू द्वारा सदन में एक बयान देने के बाद हुई चर्चा के दौरान हंगामा हुआ. टीडीपी नेता एन. रामानायडू को बाद में बोलने की अनुमति दी गई लेकिन उन्हें भी विरोध झेलना पड़ा.
रामानायडू की आलोचना पर मुख्यमंत्री ने कहा कि टीडीपी के नेता सदन में अभद्र आचरण कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि टीडीपी नेता, मुद्दे को समझे बिना बोल रहे हैं.

रेड्डी ने कहा कि सरकार दिसंबर के अंत तक किसानों को सब्सिडी देने के लिए प्रतिबद्ध है. चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) ने मुख्यमंत्री को जवाब देना चाहा, लेकिन उन्हें अवसर नहीं दिया गया.

वाईएसआर कांग्रेस (YSR Congress) के नेताओं ने टीडीपी अध्यक्ष को बोलने का मौका नहीं दिया, जिसके बाद विपक्षी दल के नेता अध्यक्ष के आसन के सामने धरने पर बैठ गए. अध्यक्ष टी. सीताराम ने नाराज विधायकों से अपनी सीट पर जाने का आग्रह किया लेकिन वे नहीं माने.

इसके बाद संसदीय कार्य मंत्री बी राजेन्द्रनाथ ने टीडीपी विधायकों को एक दिन के लिए सदन से निलंबित करने का प्रस्ताव पेश किया जिसे ध्वनिमत से पारित कर दिया गया. इसके बाद चंद्रबाबू नायडू ने अपने विधायकों के साथ सदन के प्रवेश द्वार के पास धरना दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज