मिशन मून: चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग टीम में शामिल है किसान का ये बेटा

चंद्रकांता ने भारतीय उपग्रहों और ग्राउंड स्टेशनों के लिए एंटीना सिस्टम डिजाइन किया है. वो चंद्रयान -1, GSAT-12 और ASTROSAT के प्रोजेक्ट मैनेजर, एंटीना सिस्टम के तौर पर काम कर चुके हैं.

News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 2:58 PM IST
मिशन मून: चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग टीम में शामिल है किसान का ये बेटा
इसरो वैज्ञानिक चंद्रकांता की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 2:58 PM IST
(सुजीत नाथ)

पश्चिम बंगाल के कोलकाता के शिबपुर गांव में किसान मधुसूदन कुमार के घर में जब बेटा हुआ तो वो उसका नाम सूर्यकांता रखना चाहते थे. लेकिन एक स्कूल टीचर की सलाह पर उन्होंने अपने बेटे का नाम चंद्रकांता रख दिया.

अब यह ईश्वर का विधान था या महज संयोग कहना मुश्किल है, लेकिन चंद्रकांता भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक वरिष्ठ वैज्ञानिक हैं और चंद्रयान -2 मिशन का नेतृत्व कर रहे हैं. चंद्रयान-2 को सोमवार दोपहर लॉन्च किया गया.

मधुसूदन कुमार ने न्यूज18 से बात करते हुए कहा, "जब मिशन को टाला गया तो हम दुखी थे. लेकिन हम भारत के सबसे मुश्किल चंद्र मिशन के लॉन्च के लिए तैयार हैं. हमें बेहद गर्व और खुशी है कि हमारा बेटा इस टीम का हिस्सा है, जो ऐसा करेगा."

चंद्रकांता के पास अहम जिम्मेदारी
चंद्रकांता ने भारतीय उपग्रहों और ग्राउंड स्टेशनों के लिए एंटीना सिस्टम डिजाइन किया है. उन्होंने चंद्रयान -1, GSAT-12 और ASTROSAT के लिए प्रोजेक्ट मैनेजर, एंटीना सिस्टम के तौर पर काम किया. वर्तमान में वह डिप्टी प्रोजेक्ट डायरेक्टर हैं, जो चंद्रयान -2 की आरएफ प्रणाली के लिए जिम्मेदार हैं और यूआर राव सैटेलाइट सेंटर (यूआरएससी) के 'इलेक्ट्रोमैग्नेटिक्स' खंड के प्रमुख हैं.


Loading...

पिता बोले- मेहनत से मिली सफलता
चंद्रकांता के पिता मधुसूदन कुमार कहते हैं, "खेत के काम में व्यस्त रहने के कारण मुझे कभी उसे पढ़ाने का वक्त नहीं मिला. चंद्रकांता के अध्यापकों ने उसे तैयार किया. वह हमेशा से मेहनती था. वह 2001 में इसरों में शामिल हुआ और मेहनत और समर्पण ने उसे महत्वपूर्ण मिशन में प्रमुख वैज्ञानिक बना दिया."

चंद्रकांता की मां बेटे की उपल्ब्धि से इतनी खुश थीं कि शब्दों को सही से कह भी नहीं पा रही थीं. उन्होंने कहा, "मेरे बेटे ने मुझे सुबह फोन किया और टीवी पर चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग देखने के लिए कहा. मैं आज बहुत खुश हूं और मुझे अपने बेटे पर गर्व है. उसने बाधाओं को पार किया और वैज्ञानिक बना."

छोटा भाई भी वैज्ञानिक
चंद्रकांता के छोटे भाई शशिकांत का नाम भी चांद पर रखा गया है और वह भी वैज्ञानिक है. बता दें कि चंद्रयान-2 सोमवार दोपहर 2:43 मिनट पर लॉन्च किया जाएगा. पहले इसकी लॉन्चिंग 15 जुलाई को होनी थी, लेकिन तकनीकी कारणों से इसे रोक दिया गया.

ये भी पढ़ें: आज पूरी तरह कामयाब रहेगी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग: प्रकाश जावड़ेकर 

मिशन मून: Chandrayaan-2 के लिए ये 15 मिनट हैं सबसे मुश्किल
First published: July 22, 2019, 12:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...